Corona को लेकर बड़ा खुलासा, वैज्ञानिकों ने कहा- ‘पानी से पूरी तरह मर जाता है वायरस’

रूस के वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी (Vector State Research Center of Virology and Biotechnology) के वैज्ञानिक कोरोना (Corona) को लेकर पिछले कई महीनों से शोध कर रहे थे। इसी शोध में उन्होंने पता लगाया है कि पानी में कोरोना (Corona) वायरस खत्म हो जाता है। हालांकि इसे पूरी तरह से नष्ट होने में 72 घंटों का समय लगता है।

 
 

By: Vivhav Shukla

Published: 31 Jul 2020, 05:03 PM IST

नई दिल्ली। दुनिया भर में कोरोना (corona) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। ताजे आकंड़े के मुताबिक 1.7 करोड़ से अधिक लोग इस महामारी (Corona epidemic) से संक्रमित हो चुके हैं। वहीं लगभग 7.2 लाख से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। हर देश Corona vaccine खोजने में लगा हुआ है लेकिन अभी तक किसी के हाथ सफलता नहींं लगी है। वहीं इस वायरस को लेकर कई नए खुलासे भी हो रहे हैं। हाल ही में वैज्ञानिकों ने एक ताजे शोध में दावा किया है कि कि पानी में कोरोना वायरस मर जाते हैं।

Corona को लेकर बड़ा खुलासा, 9 दिन बाद मरीज से नहीं फैलता संक्रमण !

दरअसल, रूस के वेक्टर स्टेट रिसर्च सेंटर ऑफ वायरोलॉजी एंड बायोटेक्नोलॉजी (Vector State Research Center of Virology and Biotechnology) के वैज्ञानिक कोरोना (Corona) को लेकर पिछले कई महीनों से शोध कर रहे थे। इसी शोध में उन्होंने पता लगाया है कि पानी में कोरोना (Corona) वायरस खत्म हो जाता है। हालांकि इसे पूरी तरह से नष्ट होने में 72 घंटों का समय लगता है।

शोध कर रहे वैज्ञानिकों ने बताया कि डीक्लोराइनेटेड (Dechlorinated) और खारे पानी में वायरस नहीं फैलता है, लेकिन संरक्षित किया जा सकता है। रोनवायरस के खत्म होने का समय सीधे पानी के तापमान पर निर्भर करता है।

रिसर्च के मुताबिक कमरे के तापमान पर पानी में COVID का 90% Virus मर जाता है। जबकि 72 घंटों के दौरान 99.9% कोरोना पूरी तरह खत्म हो जाता है। वहीं पानी के उबलने से वायरस पूरी तरह नष्ट हो जाता है। वहीं क्लोरीनयुक्त पानी में कोरोनावायरस अपनी संकामक क्षमता को पूरी तरह से खो देता है।

बताते चले इससे पहले United kingdom के वैज्ञानिकों ने 98 शोधों के आंकड़ों के आधार पर बताया था कि अगर कोरोना मरीज के गले, नाक, मल में 9 दिन बाद भी वायरस (Coronavirus) की मौजूदगी पाई जाती है, तो भी उससे संक्रमण नहीं फैलता है।

4 पीढ़ियों से ये परिवार सिल रहा श्री राम के कपड़े, भूमिपूजन के लिए तैयार किया है खास पोशाक!

इस स्टड़ी के मुताबिक वायरस का जो जेनेटिक पदार्थ यानी कि RNA गले में 17 से 83 तक रहता है लेकिन यह RNA खुद संक्रमण नहीं फैलात। लेकिन संवेदनशीलता के कारण उसकी पहचान हो जाती है लेकिन 9 दिन के बाद वायरस (Coronavirus) का कल्चर विकसित करने के सारे प्रयास फेल हो जाते हैं। इसकी वजह से इनकी संक्रमकता क्षमता भी खत्म हो जाती है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned