गाय के गोबर से बनाई अनोखी चिप, मोबाईल के रेडिएशन को करेगी कम

आपने गाय के गोबर के कई फायदे के बारे में पढ़ा और सुना होगा। गायक के गोबर को लेकर कई दावे भी किये जाते है। जिनको लेकर कई बार विवाद भी हुआ है। अब एक बार फिर गाय के गोबर को लेकर दावा किया गया है कि गाय का गोबर एंटी रेडिएशन है। बताया जा रहा है कि इससे बने चिप के इस्तेमाल से मोबाइल का रेडिएशन कम किया जा सकता है।

By: Shaitan Prajapat

Published: 16 Oct 2020, 07:12 PM IST

आपने गाय के गोबर के कई फायदे के बारे में पढ़ा और सुना होगा। गायक के गोबर को लेकर कई दावे भी किये जाते है। जिनको लेकर कई बार विवाद भी हुआ है। अब एक बार फिर गाय के गोबर को लेकर दावा किया गया है कि गाय का गोबर एंटी रेडिएशन है। बताया जा रहा है कि इससे बने चिप के इस्तेमाल से मोबाइल का रेडिएशन कम किया जा सकता है। हाल ही में राष्ट्रीय कामधेनु अयोग के अध्यक्ष वल्लभ भाई कथीरिया इसकी घोषणा की है। कथीरिया ने कहा कि गाय का गोबर एक रेडिएशन चिप है, रेडिएशन को कम करने के लिए मोबाइल फोन में इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

 

यह भी पढ़े :— मेहनत मजदूरी कर बनाया फौलादी शरीर, बॉडी देख रह जाएंगे दंग

गाय के गोबर से बने कई उत्पाद किए गए लॉन्च
राष्ट्रीय कामधेनु आयोग के अध्यक्ष वल्लभ भाई कथीरिया ने बताया कि हमने देखा है कि जब हम गोबर अपने आसपास रखते हैं तो हम रेडिएशन से काफी हद तक सुरक्षित हो जाते हैं। यदि हमें विभिन्न रोगों से बचना है तो आगे आने वाले समय में हमें गोबर के अधिकतम उत्पाद उपयोग में लाने होंगे। राष्ट्रीय कामधेनु आयोग से मिली जानकारी के अनुसार गाय के गोबर से बने हुए बहुत से उत्पाद आयोग द्वारा लांच किए गए हैं। आयोग का कहना है कि देश में इस बार दीवाली के समय प्रदूषण को कम से कम करना है। अब राष्ट्रीय कामधेनु आयोग द्वारा गाय के गोबर की चिप लांच होने के बाद इस गोबर चिप को लेकर आयोग ने विश्वास जताया है। दावा है कि यह गोबर चिप मोबाइल का रेडिएशन कम करने में सफल है।

यह भी पढ़े :— ऑनलाइन शॉपिंग करते समय ऐसे पहचाने प्रोडक्ट असली है या नकली

33 करोड़ दीप प्रज्वलित करने का लक्ष्य
आयोग ने कहा कि गोमय गणेश अभियान' की सफलता से उत्साहित होकर ‘गोमय दीपक' को लोगों के बीच लोकप्रिय बनाने के लिए यह अभियान चलाने का संकल्प लिया है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत आयोग दीपोत्सव के दौरान गोबर और पंचगव्य के बहुआयामी उपयोग को प्रोत्साहित करने जा रहा है। आयोग ने कहा कि यह प्रयास गौशालाओं को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा और उम्मीद जताई गई कि यह पहल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की संकल्पना और स्वदेशी आंदोलन को प्रोत्साहन देते हुए चीन निर्मित दीयों का बहिष्कार सुनिश्चित करेगा। आयोग ने देशभर में 11 करोड़ परिवारों के माध्यम से गोबर निर्मित 33 करोड़ दीप प्रज्वलित करने का लक्ष्य रखा है।

Shaitan Prajapat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned