कोरोना के नियम तोड़ने वालों को इस देश की सरकार देती है 'मौत की सजा'!

उत्तर कोरिया में अब कोरोना की गाइडलाइन्स तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाएगा

By: Pratibha Tripathi

Updated: 31 Dec 2020, 06:29 PM IST

नई दिल्ली। उत्तर कोरिया पूरी दुनिया में अपने अमानवीय बर्ताव से काफी पहचाना जाता है क्योकि इस देश का लीडर अपनी कठोरता से लोगों को ऐसी सजा देता है जिसे सुनकर हर किसी का दिल दहल जाता है। इन दिनों चारों ओर कोरोना महामारी से लोग परेशान है और पूरी दुनिया इस महामारी से त्राही-त्राही कर रही है लेकिन इसी के बीच उत्तर कोरिया ही ऐसा पहला देश है जहां कोरोना के मामले बहुत ही कम देखने को मिले है। क्योंकि कोरोना की गाइडलाइन्स तोड़ने वालों के खिलाफ सख्त एक्शन लिया जाता है।

इस देश में जो लोग कोरोना से बने नियमों को तोड़ता है उन्हें स्पेशल क्रिमिनल घोषित करके बंदी शिविर या डिटेंशन कैंप में डाल दिया जाता है रिपोर्ट्स के अनुसार, इन हाई सिक्योरिटी कैंप्स को उत्तर कोरिया के सुप्रीम लीडर किम जोंग की इजाजत से उन्हें बाहर निकाला जा सकता है। हालांकि नॉर्थ कोरिया लगातार इस बात का दावा करता आ रहा है कि उनके देश में कोरोना मामले नहीं हैं। ह्वाचोन में इन 'स्पेशल क्रिमिनल्स' के लिए एक पॉलिटिकल कैंप बनाया गया है

इस देश में कोरोना के कई कठोर नियम बनाए गये है। और जो लोग इन नियमों का पालन नही करते है उन्हें कड़ी यातनाएं दी जा रही हैं और टॉर्चर किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक, अगर कोई शख्स रनिंग करते हुए बेहोश हो जाता है तो जितना समय ग्राउंड पर बेहोश होने में बिताया है उसका दस गुणा ज्यादा दौड़ना पड़ता है। इससे पहले दिसंबर में एक ही दिन 53 लोगों को इस कैंप में लाया गया था जिसमें से 6 लोगों की अगले दिन मौत हो गई थी।

गौरतलब है कि इससे पहले खबर आई थी कि इस वायरस से घबराए किम ने कोरोना के नियमों को तोड़ने वाले एक आदमी को पब्लिक के सामने ही गोली से मरवा दिया था ताकि लोगों में नॉर्थ कोरिया के सख्त कोरोना नियमों को लेकर खौफ पैदा हो सके।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned