हैदराबाद गैंगरेप-मर्डर केस: 'दिशा' के हत्यारों में से एक है किडनी का मरीज, लेकिन अभी नहीं किया जाएगा इलाज...

  • चारों आरोपियों को जेल में रखा गया है
  • पुलिस ने कड़ी सुरक्षा की है जेल के अंदर

By: Prakash Chand Joshi

Published: 03 Dec 2019, 10:54 AM IST

नई दिल्ली: हैदराबाद ( Hyderabad ) में महिला डॉक्टर के साथ हुई घिनौनी वारदात से पूरा देश दुखी और गुस्से में हैं। वहीं दिशा की हत्या के चारों आरोपियों को हैदराबाद के हाईटेक चेरापल्ली जेल में शनिवार शाम को कड़ी सुरक्षा के बीच लाया गया। इन आरोपियों के नाम हैं मोहम्मद आरिफ, शिवा, नवीन और चेन्नकेशवुलु है। इन सभी को अलग-अलग सेल में रखा गया है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि इनमें से एक किडनी का पेशेंट है।

disha1.png

फेक अलर्ट: हैदराबाद गैंगरेप केस मामले में पुलिस ने आरोपी को खुलेआम पीटा? किया जा रहा है ये चौंकाने वाला दावा

किडनी पेशेंट है आरोपी

अधिकरियों ने इन चारों विचाराधीन कैदियों के लिए खास सुरक्षा व्यवस्था की है। तीन शिफ्टों में 24 जेल पुलिस कांस्टेबलों को तैनात किया गया। किसी को भी इन सेल के आसपास भटकने नहीं दिया जाता है। पता चला है कि इनमें से एक कैदी की किडनी खराब है। इस कैदी का निम्स यानि निजाम इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज में इलाज चल रहा था। इसका 6 महीने में एक बार इसका डायलिसिस किया जाना है। चिकित्सकों से संपर्क करने के बाद उस कैदी की इलाज की प्रक्रिया आरंभ की जाएगी। बताया जा रहा है कि शनिवार रात को ये चारों कैदी ठीक से नहीं सोए।

disha2.png

ये है डबल सिंगल सेल का मतलब

इन चारों आरोपियों को डबल सिंगल सेल में रखा गया है। दरअसल, डबल सिंगल सेल में उन कैदियों को रखा जाता है, जो जेल में कैदी या अधिकारियों के साथ लड़ाई-झगड़ा करते हैं। इस सेल में रखने के बाद इन कैदियों को अन्य कैदियों से संबंध टूट जाता है। वहीं इनके सेल का गेट नास्ता-खाना देने के दौरान ही खोला जाता है या फिर किसी अन्य जरूरी काम की वजह से। यही नहीं यहां टॉयलेट जाने के लिए भी सेल के अंदर ही एक कोने में बना होता है। सभी चीजों को सेल के अंद कैदी से दूर रखा जाता है, ताकि वो आत्महत्या न कर सके।

Show More
Prakash Chand Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned