दिमाग में फंसी गोली के 100 टुकड़ों को निकाल डॉक्टरों ने हासिल की कामयाबी, 5 घंटे तक चली सर्जरी

  • Unique Surgery : 39 वर्षीय शख्स के सिर में लगी थी गोली, दिमाग में मौजूद मजबूत हड्डी से टकराने पर चारों-ओर बिखर गए टुकड़े
  • ज्यादा खून बहने और सांस लेने में तकलीफ के कारण घायल को पहले वेंटिलेटर पर रखा गया था

By: Soma Roy

Published: 28 Jul 2020, 10:16 AM IST

नई दिल्ली। मूवीज में अक्सर आपने देखा होगा कि चारों—तरफ से गोलियां चल रही है, मगर रियल लाइफ में कुछ ऐसा ही सीन देखने को मिला। अंतर सिर्फ इतना था कि गोली (Bullet) तो एक ही थी, लेकिन वो 100 टुकड़ों में बिखरकर दिमाग के अलग—अलग हिस्सों में जाकर अटक गई। ऐसे में इन्हें बाहर निकालना डॉक्टरों के लिए एक चुनौती बन गई। इसके बावजूद शख्स का सफलतापूर्वक (Successful Surgery) इलाजकर डॉक्टरों ने एक नई उपलब्धि हासिल की है।

दिमाग का ये पेंचीदा ऑपरेशन (Brain Operation) दिल्ली के सर गंगा राम अस्पताल के डॉक्टरों ने सफलतापूर्वक किया। बताया जाता है कि एक 39 वर्षीय व्यक्ति के सिर में गोली लगी थी। जिसकी वजह से तेजी से खून बह रहा था। साथ ही शख्स को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी। जिसके चलते उसे वेंटिलेटर पर रखा गया। जब घायल शख्स के सिर का सीटी स्कैन किया गया, तो पता चला कि खोपड़ी में कई फ्रैक्चर हो गए हैं। जगह—जगह खून के थक्कों के क्लॉट बन चुके हैं। ज्यादातर टुकड़े क्रेनियम (खोपड़ी) के अंदर घुस गए थे। समय रहते इन्हें न निकाले जाने से व्यक्ति की जान जा सकती थी।

कोरेाना काल के दौरान किसी भी व्यक्ति की सर्जरी करने से पहले उसका कोरोना टेस्ट कराया जाता है। रिपोर्ट मिलने के बाद ही प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाता है। मगर मामले की गंभीरता को देखते हुए डॉक्टरों ने पहले सर्जरी करने का फैसला लिया। डॉक्टरों ने सर्जरी से पहले बारीकी से जांच की तो पता चला कि जब व्यक्ति को गोली मारी गई तो वह सिर की एक मजबूत हड्डी से टकरा गई थी। जिसके चलते ये अंदर कई हिस्सों में टूटकर बिखर गई। चिकित्सकों ने 5 घंटे तक चले इस ऑपरेशन के बाद कामयाबी हासिल की। परिजनों समेत बाकी लोगों ने डॉटरों को इस अनोखे और जटिल काम को सही से करने के लिए बधाई दी।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned