जीना इसी का नाम है: 90 साल के दादा, जो लॉकडाउन में पूरे कर रहे हैं अपने गोल

Lockdown की वजह से घरों में कैद लोग ओवरथिंकिंग (overthinking) के शिकार हो रहे हैं, परेशान हो रहे हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस लॉकडाउन को भी दिल से एन्जॉय (Enjoy) कर रहे हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक 90 वर्षीय शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस लॉकडाउन में भी अपने गोल पूरे कर रहे हैं।

 

By: Vivhav Shukla

Published: 18 May 2020, 08:23 PM IST

नई दिल्ली। साल 2019 बीता तो सब खुश थे कि नया साल आएगा नई खुशियां लाएगा लेकिन हो गया इसका उल्टा। साल की शुरुआत में ही कोरोना (Coronavirus) ने दस्तक दे दी। जैसे-जैसे महीनें बीतते गए कोरोना का प्रकोप भी बढ़ता गया। आज आलम ये है कोरोना से पूरी दुनिया में हाहाकार मचा हुआ है। सब कुछ ठप्प पड़ा हुआ है। ज्यादातर देश लॉकडाउन (Lockdown) है। लोग पिछले कई महीनों से अपने घरों में कैद है।

कोरोना: अस्पताल दौरे पर गई थी Belgium की PM, मेडिकल स्टाफ ने मुंह फेर किया विरोध प्रदर्शन

घरों में कैद लोग अब ओवरथिंकिंग (overthinking) के शिकार हो रहे हैं, परेशान हो रहे हैं। लेकिन कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इस लॉकडाउन को भी दिल से एन्जॉय (Enjoy) कर रहे हैं। आज हम आपको ऐसे ही एक 90 वर्षीय शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो इस लॉकडाउन में भी अपने गोल पूरे कर रहे हैं।

View this post on Instagram

“I’ve never taken life too seriously. In fact, I’ve been on the opposite end of the serious spectrum– back in my day, I was a real prankster! Once, I was coming home to my wife after a sailing trip and had this idea to act like a burglar. I started knocking at the door to scare my wife– it didn’t turn out too well; she alerted the entire neighbourhood and I almost got arrested! This other time, I was travelling with my brother and when the ticket collector came to us, I pretended to not know my brother and asked the TC to arrest him for not having his ticket! My brother was in shock and just when he was about to be taken away, I burst out laughing. My brother was so angry, but he was also used to it! My family knows me as a big prankster…what good is life without some harmless pranks? And even now, I believe in living with that zest. That’s why I’m 90 and still working– I wake up at 5, make breakfast for me and my wife, and am off to work by 7; I work at a repair shop. After work, I go for a walk or watch movies with my wife. On weekends, I’m either gardening or hunting for something to repair at home...I just can’t be idle! So during the lockdown, I’m keeping myself entertained with Whatsapp. I’ve started making memes about our family and sharing them on our groups– my meme game is strong! I also organise a lot of family games and quizzes like ‘Guess which family member did this?’ Sometimes I’ll arrange for Teen Patti game nights– All my pranking has made me a bluff master...so you can imagine how hilarious these games are! I believe in a life full of adventure, pranks, fun, and a fridge full of chocolates, kaaju katli, cheese and beer...lots of beer! We overthink and complicate life too much. Take it from a 90 year old man who’s seen it all; Life is always going to be up and down, so you may as well just chill and have a cold beer whilst you’re at it!”

A post shared by Humans of Bombay (@officialhumansofbombay) on

ह्यूम्स ऑफ बॉम्बे (humour of bombay) के Instagram पेज ने शख्स की कुछ तस्वीरें शेयर की है। तस्वीर में वे हाथ में बीयर और काला चश्मा लगाए नजर आ रहे हैं। दादा का कहना है कि वे ‘मैं जिंदगी को कभी सीरियस नहीं नहीं लिया। वास्तव में मैं असली शरारती था।’ उन्होंने बताया कि वे खुद को एंटरटेन करने के लिए इन दिनों डिजिटल मीडिया का सहारा ले रहे हैं। वे वॉट्सऐप पर लोगों को संदेश भेजते हैं, मीम बनाते हैं।

सूर्य की तरफ बढ़ रहा है 'बर्फ का गोला', आकाश में होगी जोरदार आतिशबाजी!

उन्होंने बताया कि लोग इस लॉकडाउन में अपनी जिंदगी को बांध लिया है जो गलत है। लाइफ में अप एंड डाउन आते रहते हैं। इसके बारे में ज्यादा नहीं सोचना चाहिए हमें बस चिल्ल करना है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned