ये हैं दुनिया की पहली महिला इंजीनियर, गूगल ने डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि

ये हैं दुनिया की पहली महिला इंजीनियर, गूगल ने डूडल के जरिए दी श्रद्धांजलि

Vinay Saxena | Publish: Nov, 10 2018 01:14:55 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 01:14:56 PM (IST) हॉट ऑन वेब

आज दुनिया की पहली महिला इंजीनियर एलिसा लियोनिडा जैम्फिरेस्क्यू की 131वीं जयंती है। गूगल ने डूडल के जरिए उनको श्रद्धांजलि दी।

नई दिल्ली: एलिसा लियोनिडा जैम्फिरेस्क्यू दुनिया की पहली महिला इंजीनियर हैं। आज एलिसा की 131वीं जयंती है। इस मौके पर गूगल ने डूडल के जरिए उनको श्रद्धांजलि दी है। बता दें, वो जनरल एसोसिएशन ऑफ रोमेनियन इंजीनियर्स की पहली महिला सदस्य भी थीं।

एलिसा का जन्म रोमानिया के गलाटी शहर में 10 नवंबर 1887 को हुआ था। उन्होंने रोमानिया के प्राकृतिक संसाधनों का अध्ययन किया और पुरुषों के वर्चस्व वाले मैदान में अपना मुकाम बनाया। उन्हें हायर एजुकेशन और करियर में अपना मुकाम बनाने के लिए काफी बाधाओं को पार करना पड़ा। जब उन्होंने स्कूल ऑफ हाइवेज ऐंड ब्रिजेज, बुचारेस्ट में हायर स्टडीज के लिए आवेदन किया तो जेंडर के आधार पर उनका आवेदन रद्द कर दिया गया था।

इसके बाद उन्होंने जर्मनी के रॉयल टेक्निकल एकेडमी में आवेदन किया, जिसे 1909 में मंजूर कर लिया गया। वहां भी उनको काफी भेदभाव का सामना करना पड़ा। एक बार संस्थान के प्रमुख ने उनसे कहा, 'बेहतर होता कि आप चर्च, बच्चे और रसोई पर फोकस करतीं।' तीन साल बाद यानी 1912 में उन्होंने इंजिनियरिंग में ग्रैजुएशन कर लिया और यूरोप की पहली महिला इंजिनियरों में से एक बन गईं।

जानकारी के मुताबिक, ग्रैजुएशन के बाद उन्होंने बुचारेस्ट स्थित जिअलॉजिकल इंस्टिट्यूट ज्वॉइन किया। यहां उन्होंने प्रयोगशाला का नेतृत्व किया। अपने लैब के प्रमुख के तौर पर उन्होंने मिनरल्स और अन्य चीजों के अध्ययन के लिए नए तरीके एवं तकनीक का सहारा लिया।

पहले विश्व युद्ध के दौरान उनकी मुलाकात कॉन्सटैंटिन जमिफरसको से हुई। यह मुलाकात प्यार में बदल गई और दोनों ने शादी कर ली। उनको दो बेटियां भी हुईं।

 

Ad Block is Banned