वो 2 टेस्ट जिनके जरिए होती है Coronavirus संक्रमण की जांच?

भारत में कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण चरम पर है। देश में अभी तक साढ़े 4 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। वहीं इस वायरस को लेकर लोगों के मन में तरह-तरह की शंकाएं हैं जैसे कि कोरोना वायरस (Coronavirus) का टेस्ट कैसे कराना चाहिए और ये किस तरह होता है।

By: Vivhav Shukla

Published: 24 Jun 2020, 08:59 PM IST

नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोना वायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। ताजे आकड़ों के मुताबिक 90.20 लाख लोग इस वायरस से ग्रसित हैं। वहीं 5 लाख के करीब लोगों की मौत हो चुकी है।

ईरान का वो कानून जिसमें पतियों, पिताओं और भाइयों को मिलती है हत्या की छूट !

भारत में कोरोना (Coronavirus) का संक्रमण चरम पर है। देश में अभी तक साढ़े 4 लाख से अधिक मामले सामने आ चुके हैं। वहीं इस वायरस को लेकर लोगों के मन में तरह-तरह की शंकाएं हैं जैसे कि कोरोना वायरस का टेस्ट कैसे कराना चाहिए और ये किस तरह होता है।

भारत में कोरोना टेस्ट (Corona Virus test) की दो विधिया हैं। डायग्नोस्टिक टेस्ट और एंटीबॉडी टेस्ट (Diagnostic and Antibodies test)। डायग्नोस्टिक टेस्ट (Diagnostic) दो प्रकार के होते हैं. मॉलिक्यूलर टेस्ट और एंटीजन टेस्ट। ये टेस्ट वायरस की आनुवंशिक मेटेरियल का पता लगाते हैं।

Corona ने दादी के सदियों पुराने नुस्खे को बना दिया आज के युवाओं का फैशन

मॉलिक्यूलर टेस्ट (RT-PCR) में मदद से व्य्कति के गले या नाक की सूजन में वायरस रिबोन्यूक्लिक एसिड या RNA की उपस्थिति का पता लगाता है। जबकि एंटीबॉडी टेस्ट (Antibodies ) में एंटीबॉडीज की तलाश करते हैं, जो शरीर ने वायरस से लड़ने के लिए विकसित किए होंगे।

बता दें सरकार ने प्राइवेट लैब में कोरोना जांच की फीस तय कर रखी हैl इसके तहत 4500 रुपये से ज्यादा चार्ज नहीं किए जा सकते हैं l सरकार नेकहा है कि इस फीस से ज्यादा लेने पर कानूनी कार्रवाई की जा सकती है। एक रिपोर्ट के मुताबिक देश में अभी तक कोरोना वायरस (COVID-19) के 71,37,716 से ज्यादा टेस्ट हो चुके हैं।

 
Coronavirus symptoms Coronavirus treatment Coronavirus in india
Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned