scriptHow Khonoma became India's first Green Village | भारत के खोनोमा गाँव में एक भी पेड़ नहीं काटा जाता, जानें कैसे बना देश का पहला ग्रीन विलेज | Patrika News

भारत के खोनोमा गाँव में एक भी पेड़ नहीं काटा जाता, जानें कैसे बना देश का पहला ग्रीन विलेज

India’s First Green Vilalge: भारत ही नहीं ये एशिया का पहला ग्रीन विलेज है जिसका नाम खोनोमा है। इस गाँव में लोग पेड़ नहीं काटते।

Published: February 17, 2022 02:58:53 pm

दुनियाभर में प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग की समस्या ने सभी की चिंताओं को बढ़ाया हुआ है। भारत में भी मेट्रो शहरों में प्रदूषण के स्तर ने कई तरह की समस्याओं को जन्म दिया है। हर साल दिल्ली और उसके आसपास के इलाकों में एयर क्वालिटी खराब होती है और लोगों को सांस लेने में भी परेशानी का सामना करना पड़ता है। ऐसे समय में भारत में एक ऐसा गाँव भी है जो हरियाली को महत्व देता है। यहाँ के लोग स्वच्छ हवा में सांस ले रहे हैं। ये सिर्फ भारत ही नहीं बल्कि पूरे एशिया का पहला ग्रीन विलेज है।
How Khonoma became India's first Green Village
How Khonoma became India's first Green Village
इस गाँव का नाम है खोनोमा जो बेहद सुंदर है और नागालैंड की राजधानी कोहिमा से केवल 20 किलोमीटर की दूरी पर है। 700 साल पुराने इस गाँव में जहां देखेंगे हरियाली देखने को मिलेगी। इस गाँव में करीब 600 घर होंगे जबकि आबादी 3000 हजार के करीब होगी।

इस गाँव में यदि आप जाएंगे तो आसमान भी पहाड़ों से बाते करता हुआ प्रतीत होगा और मन को शांति की अनुभूति होगी। खोनोमा गाँव ‘अंगमी' (Angami) आदिवासियों का घर है। ये आदिवासी समूह अपनी बहादुरी और मार्शल आर्ट्स कौशल के लिए मशहूर है। यही नहीं अपने हरे-भरे जंगलों और खेती की पारंपरिक तकनीक के लिए भी ये जाना जाता है।
यह भी पढ़ें

जिस जमीन पर पेट्रोल पंप लगाया; उसी जमीन पर धान की फसल भी उगाई

ग्रीन विलेज का मॉडल बन चुका ये गांव, सतत विकास के सिधान्तों को वर्षों पहले ही अपना चुका है। 90 के दशक में ही इस गाँव के लोगों ने वन कटाई और शिकार जैसे गतिविधियों पर रोक लगा दी थी।

आज भी इस गाँव में कोई पेड़ नहीं काटा जाता है। यहाँ तक कि गाँव के जानवरों का संरक्षण किया जाता है। यहाँ आवश्यकता पड़ने पर केवल टहनियों को काटा जाता है। इस गाँव झूम खेती की जाती है। इस गाँव में बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं और गाँव के लोग गर्व से अपने गाँव का बखान करते हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

प्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शवऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी सर्वे मामले को टेक ओवर करेगा बोर्ड31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तारWest Bengal SSC Mega scam क्या ममता बनर्जी तक पहुंचेगी शिक्षक भर्ती घोटाले की जांचआज चंडीगढ़ की ओर कूच करेंगे किसान, बॉर्डर पर ही बिताई रात, CM भगवंत बोले- 'खोखले नारे' नहीं तोड़ सकते संकल्प
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.