scriptIt Rained Fish in This US City, Here's Science Behind Rare Phenomenon | अमेरिका के इस शहर में अक्सर होती है मछलियों की बारिश, आखिर क्या है इसकी वजह? | Patrika News

अमेरिका के इस शहर में अक्सर होती है मछलियों की बारिश, आखिर क्या है इसकी वजह?

अमेरिका में अक्सर आंधी-तूफान और बारिश में पानी और ओलों के साथ मछलियां भी गिरती हुई नजर आती हैं। जनवरी के महीने में टेक्सास से अचानक मछलियों की बारिश होने लगी थी। लोगों को सड़कों पर मछलियां बिखरी हुई पड़ी मिलीं। इस बार सैन फ्रांसिस्को में ऐसी घटना सामने आई है।

नई दिल्ली

Published: June 30, 2022 10:32:15 pm

अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में आसमान से मछलियों की बारिश होने लगी, जिसे देखकर लोग दंग हो गए। सैन फ्रांसिस्को में बादलों की गरज-बरस के साथ लोगों को उनकी छतों पर एनकोवी नाम की छोटी मछलियां भी बरसती हुईं दिखाई दी। ये मछलियां आमतौर पर समंदर के पानी में पाई जाने वाली मछलियां होती हैं लेकिन इस वक्त सैन फ्रांसिस्को में लोगों की छतों और बगीचों के अलावा कारों पर भी ये मछलियां बरसी हुईं मिली हैं, जो लोगों को काफी हैरान कर रही हैं।
अमेरिका के इस शहर में अक्सर होती है मछलियों की बारिश, आखिर क्या है इसकी वजह?
अमेरिका के इस शहर में अक्सर होती है मछलियों की बारिश, आखिर क्या है इसकी वजह?
इससे पहले ये घटना मेरिका के टेक्सास और अर्कांसस के बीच मौजूद टेक्सर्काना नाम की जगह पर हुई थी। इससे लोग हैरान रह गए थे। जब वे घरों से निकल कर सड़कों पर गए तो चारों तरफ मछलियां पड़ी हुई मिलीं। गों ने सोशल मीडिया पर इस घटना से जुड़ी तस्वीरें भी शेयर की थी। इतना ही नहीं कुछ लोगों ने तो मौके का फायदा भी उठाया और मछलियों को इकठ्ठा करके घर भी ले गए। बाद में शहर के आधिकारिक फेसबुक पेज पर बताया गया कि यह कोई जादू नहीं था। इस दुर्लभ घटना को साइंस में 'एनिमल रेन' कहा जाता है।
वहीं जैसे-जैसे बवंडर शक्तिशाली बनता जाता है, वैसे-वैसे जानवरों को अपनी चपेट में लेता जाता है। इसके बाद ये तूफान के साथ जमीन की ओर बढ़ता है। तूफान के कमजोर होने पर बवंडर में मौजूद जीव हवा से जमीन पर गिरने लगते हैं। इससे ऐसा लगता है मानो आसमान से जीवों की बारिश हो रही हो।

यह भी पढ़ें

कम्पनी ने गलती से भेजी कर्मचारी के अकाउंट में 286 बार सैलरी, इस्तीफा देकर हुआ फरार

इस बार यह नजारा अमेरिका के सैन फ्रांसिस्को में भी देखने को मिला। मगर इस बार इस नजारे के पीछे सीगुल और पेलिकांस जैसी कुछ बड़ी चिड़ियों का भी हाथ बताया जा रहा है। सैन फ्रांसिस्को एक समुद्री इलाका है और यहां एनकोवी मछलियों की तादाद बेहद ज्यादा है। इन्हें सीगुल और पेलिकांस नाम के पक्षी खाते हैं। जब इन पक्षियों को मछलियां बड़ी तादाद में मिल जाती हैं तो कई बार नई मछली पकड़ने के चक्कर में वे पुरानी मछली को खाने के बजाय उन्हें किसी भी जगह पर गिरा देते हैं।

यह भी पढ़ें

अपने ही अपहरण के मामले में फंसे पति को जेल से छुड़ाने के लिए पत्नी काट रही कोर्ट के चक्कर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.