इस देश के स्कूल के नियम है बड़े कठोर, ड्रेस कोड से लेकर बच्चों के अंडरवियर के रंग तक तय करता हैं स्कूल

जापान के स्कूल में कक्षाओं की सफाई से लेकर खाने-पीने के लिए भी कई नियम बनाए गए हैं

By: Pratibha Tripathi

Updated: 26 Dec 2020, 10:32 PM IST

नई दिल्ली। हर देश में स्कूलों को लेकर लगभग एक जैसे नियम होते हैं। लेकिन जापान में कुछ नियम ऐसे हैं जो दुनिया के किसी देश में नहीं होते हैं। जापान के स्कूलों में बच्चों के पहनने वाले ड्रेस को लेकर अक्सर चर्चा होती है। आपको जानकर हैरानी होगी कि जापान के कुछ स्कूल तो ऐसे हैं जहां बच्चों के अंडरवियर का रंग भी स्कूल के द्वारा ही तय किये जाते हैं। यह तक कि स्कूल बैग से लेकर जूतों के ब्रांड भी स्कूल ही तय करते हैं।

दरअसल, जापान की मीडिया रिपोर्ट की माने तो, जापान के स्कूलों में दूसरे देशों की अपेक्षा अलग नियम हैं, जो दुनियाभर में मशहूर हैं। जापान के स्कूलों में सफाई कर्मचारी नहीं बल्कि स्कूल के बच्चे सफाई का कार्य करते हैं। इस कार्य में शिक्षक भी बच्चों के काम में हाथ बंटाते हैं।

जापान के स्कूलों में जैसे ड्रेस को लेकर चर्चा होती है उसी तरह वहां खाने-पीने के नियम काफी हट कर हैं। बच्चे लंच बाहर की बजाय क्लास रूम में ही करते हैं। शिक्षक भी बच्चों के साथ बैठ कर लंच करते हैं। लंच के लिए बच्चे ही अपना प्लेट और मैट साथ लाते हैं। बच्चों को खुद ही अपनी प्लेट साफ करना होता है।

यहां तक कि लड़कियों को लंबे बाल रखने पर भी पाबंदी है। गहने और मेकअप की स्कूलों में सख्त मनाही होती है। लड़कों को दाढ़ी बढ़ाने पर पाबंदी होती है, उन्हें हर दिन सेव करना अनिवार्य होता है। बच्चों के बाल डाई करने पर भी सख्त प्रतिबंध होता है।

जापान में कड़ाके की ठंड में भी बच्चे को स्कूल यूनिफार्म से हट कर रंग बिरंगे जैकेट या स्वेटर पहनने की मनाही होती है। बच्चे केवल नीली, भूरी और काले रंग की स्वेटर पहन सकते हैं। जापान के स्कूलों में जूनियर हाई स्कूल तक बच्चों को स्कूल यूनिफार्म पहना अनिवार्य होता है। बच्चों को शिक्षकों के साथ शालीनता के अलावा सम्मान के साथ पेश आना प्रमुख शर्त होती है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned