घर की खुदाई में मिले 52 जिंदा कारतूस,भारत-पाकिस्तान की जंग से है खास कनेक्शन

  • Cartridges Found : मीठाडाउ गांव में नींव डालने के दौरान हुई खुदाई में मिले कारतूस
  • 1971 के बीच हुए युद्ध से कनेक्शन होने की है संभावना

By: Soma Roy

Published: 29 Jun 2020, 05:06 PM IST

नई दिल्ली। भारत-पाकिस्तान (Indo-pak War) के जंग के किस्से सुनकर ही लोगों के रोंगटे खड़े हो जाते हैं। ऐसे में अगर उसी जमाने के जिंदा कारतूस (Live Cartridges) मिल जाए तो जाहिर-सी बात है आपकी हालत खराब हो जाएगी। ऐसा ही हाल मीठाडाउ गांव में खुदाई करने वाले मजदूरों का हुआ। वे घर की नींव डालने के लिए काम कर रहे थे तभी उन्हें मिट्टी में दबे हुए 52 जिंदा कारतूस मिले। जब इनकी जांच की गई तो पता चला कि इनका इस्तेमाल 1971 में हुए जंग के दौरान हुआ था। ये गांव राजस्थान के बाड़मेर जिले के पास है।

ये भारत-पाक सीमा से महज 2 किलोमीटर पर स्थित है। बताया जाता है कि घर में खुदाई के दौरान मिट्टी की हांडी में जिंदा कारतूस मिले। इन्हें देखते ही काम करने वालों के होश उड़ गए। बताया जाता है कि किसी समय में सेना का मूवमेंट हुआ करता था। माना जा रहा है कि 1965 एवं 1971 के दौरान हुए भारत-पाकिस्तान के युद्ध के दौरान गोलाबारी से पूरा गांव बर्बाद हो गया था। बाकी गांव में बची चीजों को भी जला दिया था। घरों और अपनों के छिन जाने के बाद कई लोगों को गांव का छोड़कर चौहटन की ओर आना पड़ा था। इसी दौरान सरकार की ओर से गांव की रखवाली के लिए उन्हें हथियार दिए जाते थे। ऐसे में हो सकता है कि ये वही कारतूस हों। हालांकि इस बारे में पुलिस के अलावा बीएसएफ के अधिकारियों को इसकी सूचना दी गई है। वे मामले की जांच कर रहे हैं।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned