जब निर्भया के चारों दोषियों के गले का लिया नाप तो ऐसे हो गई थी हालत पतली, फूट-फूटकर लगे थे रोने

  • जेल में फांसी की हो रही है रिहर्सल
  • तिहाड़ में सुरक्षा बेहद कड़ी की गई है

By: Prakash Chand Joshi

Published: 14 Jan 2020, 04:03 PM IST

नई दिल्ली: सालों के लंबे इंतजार के बाद अब उस दिन का सबको इंतजार है, जब निर्भया के चारों दोषियों पवन गुप्ता, विनय शर्मा, अक्षय कुमार सिंह और मुकेश सिंह को फांसी दी जाएगी। कोर्ट ने फांसी के लिए 22 जनवरी सुबह 7 बजे का समय मुकर्रर किया है। तिहाड़ जेल ( Tihar Jail ) प्रशासन भी फांसी की तैयारियों में जुटा हुआ है। चलिए हम आपको चारों दोषियों की वो बात बताते हैं, जब वो फूट-फूटकर रोने लगे।

meas1.png

निर्भया के दोषियों के लिए तैयार है ‘फांसी का फंदा’, जानिए क्यों हो रहा है ‘केले’ और ‘मक्खन’ का इस्तेमाल

दरअसल, अब ये साफ हो गया है कि कोर्ट द्वारा तय समय पर ही चारों दोषियों को फांसी दी जाएगी। ऐसे में तिहाड़ प्रशासन फांसी की तैयारियों में लगा हुआ है। वहीं सूत्र बताते हैं कि इसी बीच जब जेल अधिकारी दोषियों के गले का नामप लेने पहुंचे तो चारों दहल गए और बुरी तरह रोने-चिल्लाने लगे। शायद वो भाप गए कि अब उन्हें फांसी होने वाली है। चारों ने रोते-रोते जेल अधिकारियों से मिन्नतें भी कीं कि उन्हें छोड़ दिया जाए, लेकिन ऐसा हो नहीं सकता। वहीं चारों का हाल इतना बुरा था कि उन्हें शांत कराने के लिए काउंसलर की मदद लेनी पड़ी क्योंकि कहीं वो कोई गलत कदम न उठा लें।

meas2.png

वहीं अगर नजर चारों दोषियों पर दौड़ाएं तो पवन गुप्ता एक फल विक्रेता था। पवन अपने काम के साथ ग्रेजुएशन की तैयारी भी कर रहा था। पवन गुप्ता ने भी विनय शर्मा के साथ संगीत कार्यक्रम में होने की बात कही थी। वहीं विनय शर्मा ने ही गैंगरेप के दौरान बस चलाई थी और वो पेशे से एक फिटनेस ट्रेनर था। बात अक्षय कुमार सिंह की करें तो वो बिहार का रहने वाला है और अपनी पढ़ाई छोड़कर दिल्ली भागकर आ गया था। वहीं मुकेश सिंह बस की सफाई काम करने का काम करता था। ये ही बर्बरता का मुख्य आरोपी है।

Show More
Prakash Chand Joshi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned