फांसी की सजा सुनते ही फूटफूटकर रोने लगे निर्भया के दोषी, बेटे की जान की भीख मांगती दिखी दोषी की मां

  • चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाए जाने का आदेश दिया
  • दोषी मुकेश सिंह की मां ने निर्भया की मां से मांगी बेटे की जान की भीख
  • कहा- मेरे बेटे को माफ कर दो, मैं उसकी ज़िन्दगी की भीख मांगती हूं

By: Pratibha Tripathi

Published: 08 Jan 2020, 12:15 PM IST

नई दिल्ली। 16 दिसंबर 2012 की वो काली राज जिसने पूरे देश को झकझोर कर रख दिया था। और यह तारीख इतिहास के पन्नों में काले अक्षर के रूप में दर्ज हो गई। दिल्ली की सड़क पर हुआ निर्भया के साथ जघन्य अपराध की सजा देने का समय आ गया है। आज भले ही इस घटना के सात साल बीत चुके है लेकिन आज भी निर्भया के जख्म हर किसी के दिल में ताजा है। हर किसी की एक ही अवाज रही है कि आरोपियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा दी जाए। 7 जनवरी को इन चार दोषियों की फांसी की सजा का एलान चुका है। मंगलवार को अदालत में जज ने चारों दोषियों को 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाए जाने का आदेश दिया। और जैसे ही फांसी की सजा सुनाई गई। उससे कुछ ही क्षण पहले दोषियों में से एक की मां गिड़गिड़ाते हुए निर्भया की मां के पास जाकर अपने बेटे की जिंदगी की भीख मांगने लगी। और गिड़गिड़ाने लगी "मेरे बेटे को माफ कर दो, मैं उसकी ज़िन्दगी की भीख मांगती हूं..." वह रोती रही, और निर्भया की मां भी. और फिर निर्भया की मां ने जवाब दिया, "मेरी भी बेटी थी... उसके साथ क्या हुआ, मैं कैसे भूल जाऊं...? मैं इंसाफ के लिए सात साल से इंतज़ार कर रही हूं..."

nirbhaya-mother.jpg

हालांकि इसके बाद जज ने अदालत में शांति बनाए रखने का आदेश दिया। और वही दूसरी ओर जज का फैसला सुनते ही चारों दोषी - मुकेश सिंह (32), पवन गुप्ता (25), विनय शर्मा (26) और अक्षय कुमार सिंह (31) - भी रोने लगे। जज ने उनके खिलाफ डेथ वॉरंट जारी किया, जिसे 14 दिन के भीतर अमल में लाया जाना है। बताया जाता है कि चारों आरोपियों को तिहाड़ जेल में जेल नंबर 3 में अलग-अलग कोठरियों में रखा जाएगा और इस जगह पर रहकर वो सिर्फ अपने परिवािर के एक सदस्य से सिर्फ एक बार ही मिल सकेगें।

Show More
Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned