ये हैं असली मुन्नाभाई MBBS, 14 साल जेल में गुजारा वक्त, छूटते ही डिग्री पूरी कर बने डॉक्टर

  • 2002 में हत्या के मामले में जेल में डाल दिया गया था
  • जेल से निकले ही एमबीबीएस में लिया दाखिला

By: Vivhav Shukla

Published: 18 Feb 2020, 09:34 AM IST

नई दिल्ली। साल 2002 में सुभाष तुकाराम पाटिल (Dr Subhash Tukaram Patil) को हत्या के मामले में जेल हो गए थी। इस दौरान सुभाष में M.B.B.S. के तीसरे साल में पढ़ रहे थे। लेकिन जेल जाने की की वजह से उनकी पढ़ाई छूट गई। लेकिन उनको डॉक्टर बनना था। अपना ये सपना लिए उन्होंने 14 साल जेल में बिता दिए। इतने सालों बाद जब वो जेल से निकले तो सबसे पहले उन्होंने अपनी एमबीबीएस की डिग्री पूरी इसके बाद वो डॉक्टर बन उन्होंने अपना सपना पूरा किया। इनकी कहानी जानने के बाद लोग इन्हें असली Munna Bhai M.B.B.S. बता रहे हैं।

शादी के लिए नहीं मिल रही थी फुर्सत, IAS ने दफ्तर में ही IPS गर्लफ्रेंड संग लिया विवाह

सुभाष कर्नाटक के कालबुर्गी ज़िले के अफ़ज़लपुरा में रहते हैं। सुभाष को एक अदालत ने उसके अपराध के लिए आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई थी। जिसके बाद उन्हें अपने जीवन का बड़ा हिस्सा जेल में बिताना पड़ा।लेकिन साल 2016 में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर उनके अच्छे आचरण को देखते हुए उन्हें जेल से रिहा कर दिया गया। जेल में रहने के दौरान सुभाष ने जेल की OPD में काम करते थे ।

बाइक चलाते हुए फेसबुक लाइव कर रहे थे युवक, एक ही पल में चली गई जान

जेल से बाहर आने के बाद सुभाष ने फिर से एमबीबीएस में एडमिशन लिया और 40 साल की उम्र में डिग्री लेकर अपने डॉक्टर बनने के सपने को पूरा किया। सुभाष बताते हैं कि जेल में रहते हुए साल 2007 में उन्होंने पत्रकारिता में डिप्लोमा किया था। इसके बाद साल 2010 में कर्नाटक राज्य मुक्त विश्वविद्यालय से उन्होंने पत्रकारिता में ही M.A किया।जेल में रहने के दौरान सुभाष कैदियों का इलाज भी करते थे। जिसके लिए उन्हें साल 2008 में सम्मानित भी किया गया था। इसके बाद उन्होंने एमबीबीएस में दाखिला लिया जो 2019 में पूरा हुआ। फिलहाल वो अपना एक अस्पताल चलाते हैं जहां ग़रीबों का कम पैसे में इलाज किया जाता है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned