58 साल में पहली बार Nagaland विधानसभा में गूंजा राष्ट्रगान, जानिए इसके पीछे की खास वजह

  • नगालैंड 1 दिसंबर, 1963 को देश का 16वां राज्य बना
  • 11 फरवरी, 1964 को पहली विधानसभा गठित हुई।
  • राज्य की विधानसभा में कभी 'जन गण मन' की धुन नहीं सुनी गई

By: Pratibha Tripathi

Updated: 23 Feb 2021, 08:01 PM IST

नई दिल्ली। 12 फरवरी, 2021 का दिन ना केवल इस राज्य के लोगों के लिए ऐतिहासिक रहा बल्कि भारत (India)के लिए भी गौरान्वित करने वाला दिन रहा है। 12 फरवरी का दिन खास इसलिए माना जा रहा है क्योकि इस दिन नगालैंड विधानसभा (Nagaland Assembly))का बजट सत्र में राज्यपाल आरएन रवि के अभिभाषण से पहले और बाद में 58 साल में (National Anthem in Nagaland Assembly) पहली बार राष्ट्रगान गाया गया। इससे पहले त्रिपुरा विधानसभा में भी ऐसा ही कुछ देखने को मिला था जब साल 2018 में 46 वर्ष में पहली बार राष्ट्रगान हुआ था। आइए जानते हैं कि पूर्वोत्तर के इन राज्यों की विधानसभाओं में राष्ट्रगान में इतना वक्त क्यों लगा...

सोशल मीडिया पर Pawri हुआ ट्रेंड, पुलिस वाले भी करने लगे इनका इंतजार- देखें मजेदार Video

म्यांमार की सीमा से सटा नगालैंड(Nagaland)1 दिसंबर, 1963 को देश का 16वां राज्य बना। यहां मुख्य रूप से 16 जनजातियां रहती हैं। जनवरी, 1964 में पहली बार चुनाव के बाद चुनी हुई सरकार अस्तित्व में आई। 11 फरवरी, 1964 को पहली विधानसभा गठित हुई। इसके बाद राज्य की विधानसभा में कभी 'जन गण मन' की धुन नहीं सुनने को मिली।

विधानसभा अध्यक्ष ने की पहल

12 फरवरी, 2021 को राज्य गठन के करीब 58 वर्षों में पहली बार विधानसभा में राष्ट्रगान गाया गया। इसके बाद राज्य का बजट पेश किया गया था। बजट पेश करने के दौरान राज्यपाल आरएन रवि के अभिभाषण से पहले और बाद में राष्ट्रगान गाया गया। हालांकि, ज्यादातर राज्यों में राष्ट्रगान की परंपरा है, लेकिन नगालैंड ने इस प्रथा को निभाने से इंकार कर दिया। ऐसा पहला मौका है जब नगालैंड के राज्य बनने के बाद से पहली बार विधानसभा में राष्ट्रगान गाया गया है इसकी पहल विधानसभा अध्यक्ष शेरिंगेन लोंगकुमेर ने की। और इसकी सहमति मुख्यमंत्री नेफियू रियो के नेतृत्व वाली सरकार से ली गई।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned