Science: अब बिजली से नही कागज से चार्ज होगा मोबाइल, जानें Paper Device की खूबियां

अमेरिका के वैज्ञानिकों ने बिजली (Electricity) पैदा करने वाली एक ऐसी मशीन बना ली है जो कागज से बनी है

By: Pratibha Tripathi

Published: 13 Jan 2021, 09:13 PM IST

नई दिल्ली: दुनिया में हरदिन विज्ञान के क्षेत्र में कुछ ना कुछ नया प्रयोग या रिसर्च होता रहता है। इसी तरह अमेरिकी वैज्ञानिकों ने बिजली (Electricity) पैदा करने की एक ऐसी मशीन बनाई है, जो किसी धातु की बजाय कागज से बिजली पैदा करने में सक्षम है। भले यह सुनने में अटपटा लगे लेकिन यह सच है। कागज के डेबाइस को दबाने से बिजली पैदा (Generate Electricity by Squeezing Paper Device) होती है। यह नई खोज करने वाले वैज्ञानिकों का दावा है कि भविष्य में इंसान अपने साथ ऐसी डेबाइस लेकर चल सकेंगे, जिसके माध्यम से एनर्जी की समस्या का समाधान चलते फिरते हो जाएगा। इस डेबाइस से मोबाइल सहित दूसरे उपकरण आसानी से चार्ज किया जा सकेगा। इसके लिए सिर्फ कागज को दबाना पड़ेगा। आखिर कैसे कागज से तैयार होगी बिजली, जानते हैं अद्भुत मशीन के बारे में...

कागज से उतपन्न होगी बिजली

बनाई गई मशीन को वैज्ञानिकों ने सामान्य घटने वाली घटना के आधार पर तैयार किया है। आपने महसूस किया होगा स्वेटर जैसे कपड़े बालों से चिपक चिट चिट आवाज करते हैं। कभी-कभी कुछ चीजों को छूने पर करंट जैसा झटका लगता है। यह करंट स्टेटिक पॉवर (Static Power) की वजह से पैदा होता है। इसके पीछे की वजह है निगेटिव या पॉजिटिव चार्ज होना जिसमें दोनों शक्तियां जब आमने-सामने हो जाटीं हैं तो करंट पैदा हो जाता है। अमेरिकी वैज्ञानिक बिजली पैदा करने के लिए उसी फॉर्मूले का सहारा लेकर यह डेबाइस बनाई है।

ट्राइबोइलेक्ट्रिसिटी से ऐसे पैदा हो सकती है बिजली

हम सब के साथ घटने वाली यह क्रिया ट्राइबोइलेक्ट्रिक इफेक्ट (Triboelectric Effect) से पैदा होती है। आपको बतादें ट्राइबोइलेक्ट्रिसिटी (Triboelectricity) से लोग अधिक टार अंजान होते हैं। इसी क्रिया के सहारे इंजीनियरों ने नई खोज की है। जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के इंजीनियर झॉन्ग लिन वॉन्ग (Zhong Lin Wang) ने ट्राइबोइलेक्ट्रिक जेनरेटर (Triboelectric Generator) तैयार किया है, जिसके माध्यम से टचस्क्रीन, पॉलीमर कपड़ों में, कोल्ड ड्रिंक्स और सोडा बॉटल्स से किया जा सकता है।

चलते-फिरते पैदा होगी बिजली

ट्राइबोइलेक्ट्रिक जेनरेटर (Triboelectric Generator) में कपड़े पहनते समय, टचस्क्रीन को छूने पर या घर्षण से बिजली पैदा होगी। अगर वैज्ञानिको का यह अविष्कार सफल होता है तो बिजली की खपत का आधा हिस्सा उपलब्ध हो जाएगा।

पॉकेट में रखने वाले होंगे ये छोटे जेनेरेटर

झॉन्ग लिन वॉन्ग (Zhong Lin Wang) की टीम ने अपने रिसर्च में सैंडपेपर को लेजर से चौकोर छोटे-छोटे खांचों में काट दिया, उसके बाद उस पर सोने जैसे दूसरे धातु की पतली कोटिंग की। और तैयार हो गयी बिजली पैदा करने वाली कागज की छोटी मशीन जिसे जेब या पर्स में रखकर आसानी से एक जगह से दूसरी जगह ले जाया जा सकता है। कागज की इस मशीन को कुछ समय तक दबाए रखने पर 1 वोल्ट तक एनर्जी पैदा हो सकती है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned