Pitru Paksha 2020: पितृ पक्ष के पहले दिन करें ये 5 काम, पूर्वज होंगे प्रसन्न

  • Pitru Paksha 2020 : इस बार पितृ पक्ष राहु के नक्षत्र में शुरू हुआ है, ज्योतिष शास्त्र में इसका विशेष महत्व है
  • श्राद्ध पूर्णिमा पर तर्पण के लिए काले तिल का प्रयोग करें

By: Soma Roy

Published: 02 Sep 2020, 11:08 AM IST

नई दिल्ली। पितृ पक्ष (Pitru Paksha 2020) की शुरुआत आज से हो गई है। इन दिनों श्राद्ध कर्म करने से पितरों की आत्मा को शांति मिलती है। इससे घर में सुख-शांति का वास होता है। श्राद्ध पक्ष के पहले दिन को प्रतिपदा कहते हैं। हिन्दू पंचांग के अनुसार भाद्रपद पूर्णिमा (Purnima) होने की वजह से इसे पूर्णिमा श्राद्ध भी कहते हैं। हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्व है। इसलिए कुछ विशेष नियमों के साथ श्राद्ध कर्म करने चाहिए।

इस बार का पितृ पक्ष है खास
इस साल पितृपक्ष की शुरुआत राहु के नक्षत्र शतभिषा में हो रही है। चूंकि राहु के नक्षत्र में इस पक्ष का आरम्भ हो रहा है इसलिए ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ये बहुत महत्वपूर्ण है। पूर्णिमा तिथि 1 सितंबर की सुबह 09:38 बजे से शुरू होगी जो 2 सितंबर 2020 को सुबह 10:53 बजे तक रहेगी।

पूर्णिमा श्राद्ध के नियम
1.शास्त्रों के अनुसार अगर आपके पूर्वजों की मृत्यु पूर्णिमा के दिन हुई है तो उनका श्राद्ध पूर्णिमा तिथि को करना चाहिए। ये श्राद्ध ऋषियों को समर्पित होता है। इसलिए परिवार के सदस्यों को पूरे पितृ पक्ष तर्पण करना चाहिए। साथ ही पितरों को जल चढ़ाना चाहिए। श्राद्ध, तर्पण, उपासना, प्रार्थना से पितृशांति के लिए काले तिल का प्रयोग अवश्य करें।

2.पितरों की आत्मा की शांति के लिए उनकी तस्वीर को सामने रखें और उन्हें चन्दन की माला पहनाएं। इसके बाद सफेद चन्दन का तिलक लगाएं।

3.पितरों को प्रसन्न करने के लिए उन्हें खीर अर्पित करें। इसमें इलायची, केसर, शक्कर और शहद मिलाएं। अब गाय के गोबर के उपले में अग्नि प्रज्वलित कर अपने पितरों के नाम से चावल के तीन पिंड बनाएं और उनका ध्यान करते हुए तीन बार आहूति दें।

4.पितरों को मोक्ष की प्राप्ति हो इसके लिए कौआ, गाय और कुत्तों के लिए खाना निकालें। इसके बाद अपनी सामथ्र्य के अनुसार एक, पांच या अधिक ब्राम्हणों को भोजन कराएं।

5.पितरों के लिए किए जाने वाली सभी क्रियाएं जनेऊ दाएं कंधे पर रखकर और दक्षिणाभिमुख होकर करें। साथ ही इस दौरान ‘ॐ पितृदेवताभ्यो नमः’ मंत्र का जाप करें।

Show More
Soma Roy
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned