आर्थराइटिस की दवा से ठीक हुए कोरोना के 95 मरीज, इसे दिया गया वंडर ड्रग का नाम

  • कोरोना से संक्रमित गंभीर स्थिति वाले मरीजों को यह दवा देने पर डॉक्टरों को इसके परिणाम चौंकाने वाले मिलें।

Piyush Jayjan

26 Mar 2020, 08:40 PM IST

नई दिल्ली। कोरोना वायरस ( coronavirus ) को मात देने के लिए पूरी दुनिया के वैज्ञानिक दवाई खोजने में लगे है। चीन में कोरोना वायरस से जूझ रहे मरीजों पर आर्थराइटिस की दवा 'एक्टेमरा' का प्रयोग किया जा रहा है। चीनी डॉक्टरों का मानना है इस दवाई की बदौलत 95 फीसदी मरीजों को ठीक किया जा चुका है।

इस दवा का इस्तेमाल आर्थराइटिस ( Arthritis ) में किया जाता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक महामारी के समय यह दवा सैम्पल के तौर पर कुछ मरीजों को दी गई जिसके बाद एक ही दिन में मरीजों को डिस्चार्ज कर दिया गया। फिलहाल बीजिंग में इसे वंडर ड्रग का नाम दिया जा रहा है।

सिंधु ने दान किए 10 लाख रुपये तो विराट-रोहित पर भड़के फैंस

इस खास दवा को स्विस जायंट नाम की फार्मा कंपनी तैयार करती है। रूमेटॉयड आर्थराइटिस ( Rheumatoid Arthritis ) के मरीजों में एक खास किस्म का प्रोटीन बढ़ जाता है जो जोड़ों में सूजन बढ़ाता है, यह दवा शरीर में उसी प्रोटीन को कम करने का काम करती है।

चीन के डॉक्टरों का कहना है, इसके परिणाम बेहद ही कारगर रहे। चीन के डॉ शियाओलिंग ज़ू की रिपोर्ट के मुताबिक, दवा की खुराक देने के कुछ दिनों के अंदर ही न सिर्फ बुखार घटा बल्कि बीमारी के लक्षणों में भी तेजी से सुधार हुआ और मरीज सामान्य हुआ।

अमेरिका-जापान में कोरोना का बढ़ता प्रकोप देख चीनी रेस्टोरेंट ने मनाया जश्न, सोशल मीडिया पर भड़के लोग

ट्रायल में शामिल 20 में से 15 लोग सांस लेने के लायक बने। इनमें 19 को डिस्चार्ज भी कर दिया गया। अन्य 1 मरीज में भी रिकवरी देखी गई। चीन के कुछ अस्पतालों में इस दवा का ट्रायल हो चुका है। अमेरिका के फेडरल ड्रग्स एडमिनिस्ट्रेशन ने कोरोना के मरीजों पर इस दवा का ट्रायल शुरू कर दिया है।

Piyush Jayjan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned