सैनिटाइजर और मास्क बनाने में जुटी रेल फैक्ट्रियां, कोच को आइसोलेशन वार्ड में होंगे तब्दील

  • रेलवे ने सैनिटाइजर और मास्क बनाने की शुरुआत कर दी है।
  • रेल के कोचों को आइसोलेशन वार्ड में भी बदला जा सकता है।

Piyush Jayjan

27 Mar 2020, 09:40 AM IST

नई दिल्ली। भारत में पिछले कुछ दिनों से कोरोना ( coronavirus ) मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा देखने को मिल रहा है। इस बीच यह सवाल भी उठने लगा है कि कोरोना जैसी भयंकर महामारी से निपटने के लिए भारत के पास पर्याप्त हेल्थ सुविधाएं नहीं है। ऐसे में कोरोना भारत में दूसरे देशों के मुकाबले ज्यादा तबाही मचा सकता है।

कोरोना से जंग: इंग्लिश क्रिकेटर्स ने शुरू की अनोखी पहल, पब और रेस्त्रां को ग्रॉसरी स्टोर में बदला

एक रिपोर्ट के मुताबिक अब यह खबर मिल रही है कि रेलवे जरूरत पड़ने पर कोच फैक्ट्रियों में मेडिकल उपकरण बना सकता है। वहीं रेलवे ( Railway ) ने सैनिटाइजर और मास्क बनाने की शुरुआत कर दी है। इसके अलावा रेल के कोचों को आइसोलेशन वार्ड में भी बदला जा सकता है।

फिलहाल मैकेनिकल और मेडिकल की टीम इस विकल्प पर मीटिंग भी कर रही है। रेलवे ने इसी आधार पर तैयारी शुरू कर दी है। मौजदा समय में कोच फैक्ट्रियों में रेल प्रोडक्शन बंद कर दिया गया है। इसलिए कोच फैक्ट्रियों में बेड, रैक, स्टैंड, मेज, कुर्सी बनाए जा सकते हैं।

आर्थराइटिस की दवा से ठीक हुए कोरोना के 95 मरीज, इसे दिया गया वंडर ड्रग का नाम

रेलवे बोर्ड ने इसके संबंध में रिपोर्ट भी मांगी है। रेलवे बोर्ड के अधिकारियों ने बताया कि जरूरत पड़ने पर रेलवे कोचों को आइसोलेशन वॉर्ड में तब्दील किया जा सकता है। अधिकारियों का कहना है कि हर तरह के संभावित विकल्प पर विचार किया जा रहा है और स्थितियों को देखते हुए ही अंतिम फैसला लिया जाएगा।

 

coronavirus
Piyush Jayjan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned