Small Industry Day: उस शख्स की कहानी, जो चंद रुपये लेकर भारत आया और बन गया मसालों का शहंशाह !

Small Industry Day: हर साल 30 अगस्त को दुनियाभर में अंतर्राष्ट्रीय लघु उद्योग (Small industry day) दिवस मनाया जाता है। आज Small industry day के मौके पर आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने मजह 1500 रुपए लगाकर 1500 करोड़ की industry खड़ी कर दी।

By: Vivhav Shukla

Published: 30 Aug 2020, 04:19 PM IST

Small Industry Day: हर साल 30 अगस्त को दुनियाभर में अंतर्राष्ट्रीय लघु उद्योग (Small industry day) दिवस मनाया जाता है। Small industry day लघु उद्योगों (Small industry) को बढ़ावा देने और बेरोज़गारों को रोज़गार के अवसर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मनाया जाता है। लघु उद्योग हमेशा छोटे पैमाने पर किये जाते हैं । आज Small industry day के मौके पर आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने मजह 1500 रुपए लगाकर 1500 करोड़ की industry खड़ी कर दी।

IPL 2020: मैच से पहले ही Dhoni की टीम को झटका, एक खिलाड़ी समेत 12 सपोर्ट स्टाफ Corona संक्रमित

इस शख्ख का नाम है धर्मपाल गुलाटी (Dharmpal Gulati)। 97 साल के गुलाटी (Dharmpal Gulati) मसाला कंपनी MDH के मालिक है। धर्मपाल गुलाटी पाकिस्तान से भारतक आकर करोड़ों का बिजनेस एंपायर खड़ा किया है। भारत-पाकिस्तान विभाजन के बाद वे दिल्ली आ गए और 27 सितंबर 1947 को उनके पास केवल 1500 रुपये थे। इसमें से 650 रुपये में एक तांगा खरीदा और नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से कुतुब रोड के बीच तांगा चलाने लगे। कुछ दिनों बाद उन्होंने वो तांगा अपने भाई को देकर मसाले बेचना शुरू किया।उनका मसाला लोगों की जुबान पर ऐसा चढ़ा कि देशभर में धूम मच गई।

पाकिस्तान के सियालकोट (Sialkot of pakistan) में पैदा हुए धर्मपाल सिर्फ 5वीं तक ही पढ़े हैं। देश विभाजन के समय इनका परिवार पाकिस्तान में अपना सब कुछ छोड़कर दिल्ली (Delhi) आ गया था और एक शरणार्थी कैंप में रहने लगा। यहां उन्होंने पहले तांगा चलाकर गुजारा किया फिर मसाले का काम शुरू कर दिया। पाकिस्तान में उनके पिता चुन्नी लाल भी मसालों का बिजनेस करते थे।

5,020 करोड़ रुपये में सरकार बेचने जा रही सरकारी डिफेंस कंपनी HAL की 15% हिस्सेदारी !

इसके बाद धरमपाल ने दिल्ली (Delhi) के Karol Bagh में एक छोटी सी दुकान से अपना पुश्तैनी काम शुरू किया। शुरुआत में मसाले की पिसाई से पैकेजिंग तक का काम वो अपने घर में करते थे। इसके लिए पूरा परिवार मदद करता था। धीरे-धीरे बाज़ार में मसाले की मांग बढ़ने लगी।

फिर दो-चार मजदूर रख लिया। बिजनेस बढ़ता गया तो लोग भी बढ़ते गए। मौजूदा समय में भारत में एमडीएच की 15 फैक्ट्रियां चल रही हैं जो करीब 1,000 डीलरों को मसाला सप्लाई करती हैं। धरमपाल के मसाले की मांग विदेशों में भी खूब है। आज कंपनी लगभग 100 देशों से एक्सपोर्ट करती है।

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned