Coronavirus: अब दस गुना बढ़ा कोरोना संक्रमण का खतरा! वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

-Coronavirus: भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण ( Covid-19 Virus ) तेजी से फैलता जा रहा है।
-तमाम वैज्ञानिक और डॉक्टर्स कोरोना की वैक्सीन ( Coronavirus Vaccine ) खोजने में जुटे हुए हैं।
-अब वैज्ञानिकों ने शोध के बाद चौंकाने वाला खुलासा किया है।
-फ्लोरिडा ( Florida ) के स्क्रिप्‍स रिसर्च इंस्टीट्यूट ( Scripps Research Institute ) के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस अपना रूप बदलता जा रहा है। कोरोना वायरस पहले से 10 गुना ज्यादा खतरनाक हुआ है।

By: Naveen

Updated: 01 Jul 2020, 08:32 PM IST

नई दिल्ली।
Coronavirus: भारत समेत पूरी दुनिया में कोरोना संक्रमण ( COVID-19 virus ) तेजी से फैलता जा रहा है। दुनिया में अब तक कुल मरीजों ( Coronavirus Cases ) की संख्या एक करोड़ के पार पहुंच चुकी है। जबकि, 5 लाख से भी ज्यादा लोग इस वायरस की जद में आकर जान गंवा चुके हैं। तमाम वैज्ञानिक और डॉक्टर्स कोरोना की वैक्सीन ( Coronavirus Vaccine ) खोजने में जुटे हुए हैं। इसी बीच अब वैज्ञानिकों ने शोध के बाद चौंकाने वाला खुलासा किया है। फ्लोरिडा ( Florida ) के स्क्रिप्‍स रिसर्च इंस्टीट्यूट ( Scripps Research Institute ) के वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि कोरोना वायरस अपना रूप बदलता जा रहा है। कोरोना वायरस पहले से 10 गुना ज्यादा खतरनाक हुआ है। वैज्ञानिकों के अनुसार, म्युटेशन ( Mutation ) Covid-19 के यूरोप, संयुक्त राज्य अमेरिका और लैटिन अमेरिका में तेजी से फैलने की व्याख्या कर सकता है।

Coronavirus: शरीर के अंदर कैसे फैलता है कोरोना वायरस? वैज्ञानिकों ने किया चौंकाने वाला खुलासा

coronavirus_treatment_02_6194967-m.jpg

इस तरह बदल रहा रूप
वैज्ञानिकों ने बताया कि वायरस अपना रूप संख्या बढ़ाने के लिए बदलते हैं। यही वजह है कि कोरोना लगातार घातक होता जा रहा है। जब कोरोना संक्रमण के पास एक प्रतिरोधी क्षमता विकसित हो जाती है, तो वह अपने रूप बदलने या म्‍यूटेशन के लिए वो अपनी सतह पर बनने वाले प्रोटीन (Surface Protein) को बदलते हैं। वैज्ञानिकों ने दावा किया है क? कोरोना वायरस ? (Novel Coronavirus) में भी इस तरह का बदलावा आ रहा है। इसके साथ ही कोरोना और खतरनाक होता जा रहा है।

बढ़ सकता है संक्रमण का खतरा
हालांकि, वैज्ञानिकों ने बताया कि इस बदलाव से कोरोना के लक्षणों में कोई परिवर्तन नहीं आएगा। म्‍यूटेशन D614G की खोज के लिए सैंपल यूरोप और अमेरिका से लिए गए थे। वैज्ञानिकों का कहना है कि वायरस के इस बदलाव का असर सीमित रहेगा। Dr Hyeryun Choe की मौजूदगी में इस स्टडी में कोरोना वायरस पर रिसर्च की गई, जिसमें पाया गया कि वायरस के फंक्शनल प्रोटीन में बढ़ोतरी के चलते संक्रमण के एक मनुष्य से दूसरे में फैलने की दर बढ़ सकती है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned