पैसे के अभाव में पति को नहीं बचा सकी ,अब सब्जी बेच-बेचकर कर डाला ये बड़ा काम

सब्जी बेचकर सुभाषिनी मिस्त्री जी ने किया अस्पताल का निर्माण। इस काम के लिए सरकार भी कर चुकी है सम्मानित।

By:

Published: 18 Apr 2018, 03:59 PM IST

दुनिया में हर कोई अपने लिए या ज्यादा से ज्यादा अपने प्रियजनों के लिए जीता है। बिना स्वार्थ के आजकल कोई भी किसी के लिए कुछ नहीं करता है। हालांकि आज भी ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है जो अपना कुछ न होते हुए भी दूसरों के दुख-दर्द को दूर करने का हर संभव प्रयास करते हैं। भले ही ऐसे लोगों की संख्या विरल है लेकिन आज भी ऐसे लोग पाए जाते हैं। इन्हीं लोगों में से एक है सुभाषिनी मिस्त्री जिन्होंने सब्जी बेचकर एक अस्पताल का निर्माण किया। अपने इस अस्पताल का नाम उन्होंने Humanity Hospital रखा। कुछ ही महीनों पहले सुभाषिनी जी को उनके इस काम के लिए उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

 

Subhashini

कैसे आया विचार

सुभाषिनी जी का जन्म साल 1943 में हुआ था। सुभाषिनी जी के कुल 14 भाई-बहन थे। इनमें से सात भाई-बहनों की मौत सूखे की चपेट में आ जाने से हो गई। इसके बाद मात्र 14 साल की उम्र में सुभाषिनी जी की शादी हो गई और 23 वर्ष की अवस्था में वो 4 बच्चों की मां बन चुकी थी। इसी बीच एक दिन सुभाषिनी के पति की तबीयत खराब हो गई। गांव में अस्पताल न होने के कारण उन्हें पति को जिला अस्पताल में ले जाना पड़ा। पैसे की कमी के कारण वो अपने पति को बचाने में नाकामयाब रहीं। इस घटना ने उन्हें अंदर तक हिलाकर रख दिया। उसी दिन से उन्होंने मन में ही इस बात का निश्चय कर लिया था कि अब गांव में इलाज के अभाव में किसी की भी मौत नहीं होगी।

 

Subhashini

अस्पताल का निर्माण

उन्होंने न केवल अस्पताल बनाने की बात सोची बल्कि उस काम में भी जुट गई। उन्होंने सब्जी बेची, मजदूरी की,लोगों के घरों में काम किए। इन कामों के जरिए उन्होंने अपना घर भी चलाया, बच्चों का पालन-पोषण भी किया और मन में दबी इच्छा के लिए पैसे भी इकट्ठे किए। करीब 10,000 हजार रूपए एकत्रित कर लेने के बाद उन्होंने अस्पताल के लिए 1 एकड़ की जमीन खरीदी। साल 1993 में उन्होंने एक ट्रस्ट खोला और 1995 में अस्पताल की नींव रखी। उनके इस काम में गांववालों ने भी जमकर मदद किया। लेकिन ये काफी नहीं था क्योंकि अस्पताल कच्ची थी जिससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता था।
बारिश के दिनों में मरीजों का इलाज करने के लिए डॉक्टर्स को सड़क के किनारे शेड में बैठकर इलाज करना पड़ता था। इन उलझनों को दूर करने के लिए सुभाषिनी जी ने इलाके के सांसद से मदद की गुहार लगाई। सांसद, विधायक और स्थानीय लोगों ने साथ मिलकर फिर से अस्पताल का निर्माण किया। अस्पताल के बन जाने के बाद उद्धाटन के लिए पश्चिम बंगाल के राज्यपाल आए। राज्यपाल के आने से वहां मीडिया भी आई और धीरे-धीरे ये बात तमाम लोगों तक पहुंचने लगी।

 

Subhashini

आज Humanity Hospital के ट्रस्ट के पास तीन एकड़ जमीन है और कई बड़े लोग अब इस अस्पताल से जुड़ चूके हैं। शायद किसी ने ये सच ही कहा है कि यदि सच्चे दिल से किसी चीज को चाहो तो उसे पाने में पूरी कायनात आपकी मदद करती है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण सुभाषिनी जी के अलावा भला और क्या हो सकता है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned