scriptSubhasini Mistry used to sell veggies to built this hospital | पैसे के अभाव में पति को नहीं बचा सकी ,अब सब्जी बेच-बेचकर कर डाला ये बड़ा काम | Patrika News

पैसे के अभाव में पति को नहीं बचा सकी ,अब सब्जी बेच-बेचकर कर डाला ये बड़ा काम

locationनई दिल्लीPublished: Apr 18, 2018 03:59:35 pm

Submitted by:

Arijita Sen

सब्जी बेचकर सुभाषिनी मिस्त्री जी ने किया अस्पताल का निर्माण। इस काम के लिए सरकार भी कर चुकी है सम्मानित।

Subhashini

दुनिया में हर कोई अपने लिए या ज्यादा से ज्यादा अपने प्रियजनों के लिए जीता है। बिना स्वार्थ के आजकल कोई भी किसी के लिए कुछ नहीं करता है। हालांकि आज भी ऐसे लोगों की कोई कमी नहीं है जो अपना कुछ न होते हुए भी दूसरों के दुख-दर्द को दूर करने का हर संभव प्रयास करते हैं। भले ही ऐसे लोगों की संख्या विरल है लेकिन आज भी ऐसे लोग पाए जाते हैं। इन्हीं लोगों में से एक है सुभाषिनी मिस्त्री जिन्होंने सब्जी बेचकर एक अस्पताल का निर्माण किया। अपने इस अस्पताल का नाम उन्होंने Humanity Hospital रखा। कुछ ही महीनों पहले सुभाषिनी जी को उनके इस काम के लिए उन्हें पद्मश्री से सम्मानित किया गया।

 

Subhashini कैसे आया विचार

सुभाषिनी जी का जन्म साल 1943 में हुआ था। सुभाषिनी जी के कुल 14 भाई-बहन थे। इनमें से सात भाई-बहनों की मौत सूखे की चपेट में आ जाने से हो गई। इसके बाद मात्र 14 साल की उम्र में सुभाषिनी जी की शादी हो गई और 23 वर्ष की अवस्था में वो 4 बच्चों की मां बन चुकी थी। इसी बीच एक दिन सुभाषिनी के पति की तबीयत खराब हो गई। गांव में अस्पताल न होने के कारण उन्हें पति को जिला अस्पताल में ले जाना पड़ा। पैसे की कमी के कारण वो अपने पति को बचाने में नाकामयाब रहीं। इस घटना ने उन्हें अंदर तक हिलाकर रख दिया। उसी दिन से उन्होंने मन में ही इस बात का निश्चय कर लिया था कि अब गांव में इलाज के अभाव में किसी की भी मौत नहीं होगी।

 

Subhashini अस्पताल का निर्माण

उन्होंने न केवल अस्पताल बनाने की बात सोची बल्कि उस काम में भी जुट गई। उन्होंने सब्जी बेची, मजदूरी की,लोगों के घरों में काम किए। इन कामों के जरिए उन्होंने अपना घर भी चलाया, बच्चों का पालन-पोषण भी किया और मन में दबी इच्छा के लिए पैसे भी इकट्ठे किए। करीब 10,000 हजार रूपए एकत्रित कर लेने के बाद उन्होंने अस्पताल के लिए 1 एकड़ की जमीन खरीदी। साल 1993 में उन्होंने एक ट्रस्ट खोला और 1995 में अस्पताल की नींव रखी। उनके इस काम में गांववालों ने भी जमकर मदद किया। लेकिन ये काफी नहीं था क्योंकि अस्पताल कच्ची थी जिससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ता था।
बारिश के दिनों में मरीजों का इलाज करने के लिए डॉक्टर्स को सड़क के किनारे शेड में बैठकर इलाज करना पड़ता था। इन उलझनों को दूर करने के लिए सुभाषिनी जी ने इलाके के सांसद से मदद की गुहार लगाई। सांसद, विधायक और स्थानीय लोगों ने साथ मिलकर फिर से अस्पताल का निर्माण किया। अस्पताल के बन जाने के बाद उद्धाटन के लिए पश्चिम बंगाल के राज्यपाल आए। राज्यपाल के आने से वहां मीडिया भी आई और धीरे-धीरे ये बात तमाम लोगों तक पहुंचने लगी।

 

Subhashini

आज Humanity Hospital के ट्रस्ट के पास तीन एकड़ जमीन है और कई बड़े लोग अब इस अस्पताल से जुड़ चूके हैं। शायद किसी ने ये सच ही कहा है कि यदि सच्चे दिल से किसी चीज को चाहो तो उसे पाने में पूरी कायनात आपकी मदद करती है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण सुभाषिनी जी के अलावा भला और क्या हो सकता है।

सम्बधित खबरे

सबसे लोकप्रिय

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather Update: राजस्थान में बारिश को लेकर मौसम विभाग का आया लेटेस्ट अपडेट, पढ़ें खबरTata Blackbird मचाएगी बाजार में धूम! एडवांस फीचर्स के चलते Creta को मिलेगी बड़ी टक्करजयपुर के करीब गांव में सात दिन से सो भी नहीं पा रहे ग्रामीण, रात भर जागकर दे रहे पहरासातवीं के छात्रों ने चिट्ठी में लिखा अपना दुःख, प्रिंसिपल से कहा लड़कियां class में करती हैं ऐसी हरकतेंनए रंग में पेश हुई Maruti की ये 28Km माइलेज़ देने वाली SUV, अगले महीने भारत में होगी लॉन्चGanesh Chaturthi 2022: गणेश चतुर्थी पर गणपति जी की मूर्ति स्थापना का सबसे शुभ मुहूर्त यहां देखेंJaipur में सनकी आशिक ने कर दी बड़ी वारदात, लड़की थाने पहुंची और सुनाई हैरान करने वाली कहानीOptical Illusion: उल्लुओं के बीच में छुपी है एक बिल्ली, आपकी नजर है तेज तो 20 सेकंड में ढूंढकर दिखाये

बड़ी खबरें

भारत सहित विश्व के 84 देशों के 50 करोड़ व्हाट्सऐप यूजर्स का डेटा लीक, ऑनलाइन बेच रहा एक हैकरसिर्फ 15 इंच जमीन के लिए चाची ने नाबालिग भतीजी को जिंदा जलायाएक दिसंबर से बदल जाएंगे ये नियम, घट सकता है जेब का बोझFIFA 2022 : मोरक्को से हारने पर बेल्जियम में दंगा, पथराव के दौरान दागे आंसू गैस के गोले, कई गिरफ्तारबाबा रामदेव के बयान पर भाजपा सांसद का ट्वीट, जाको प्रभु दारुण दुख देही, ताकि मत पहले हर लेहीराजस्थान: पार्टी में फूट का डर से बैकफुट पर कांग्रेस, गहलोत खेमा शांत, पायलट समर्थक मुखरगुजरात चुनाव में पीएम मोदी का धुआंधार प्रचार आज करेंगे चार रैलियांश्रद्धा मर्डर केस: आरोपी आफताब का नार्को टेस्ट आज
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.