मिलिए विश्व के सबसे विशाल 'हनुमान' जी से, घर बैठे दर्शन का ना गवाएं मौका

By: Priya Singh

Published: 11 Apr 2018, 03:28 PM IST

हॉट ऑन वेब
1/2

नई दिल्ली। पुराणों में बताया गया है कि कलियुग में हनुमानजी और काली माता जाग्रत देव, देवी में से एक हैं। हनुमान को बल, बुद्धि, विद्या, शौर्य का प्रतीक माना जाता है। संकट के समय में हनुमानजी का ही स्मरण किया जाता है। तभी हनुमान जी संकटमोचन कहलाते हैं। दुनिया के सभी तरह के संकट उनका नाम लेने मात्र से ही संकट मिट जाते हैं। आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा में दुनिया की सबसे ऊंची हनुमान प्रतिमा है। इस प्रतिमा को वीर अभय अंजनी हनुमान स्वामी के नाम से जाना जाता है। इस मूर्ति की ऊंचाई लगभग 135 फीट की है। इसकी स्थापना 2003 में की गई थी। कहा जाता है कि भगवान हनुमान की यह प्रतिमा रियो डी जनेरियो में क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा से भी उंची है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned