भारत की इन महिला वैज्ञानिकों ने रचा इतिहास, मेहनत के दम से बढ़ाया देश का मान

  • देश की वो महिलाएं जो कई क्षेत्रों में पुरुषों से आगे निकली
  • महिला वैज्ञानिकों का भी देश की तरक्की में बहुत बड़ा योगदान रहा है

By: Pratibha Tripathi

Published: 21 Nov 2020, 04:48 PM IST

नई दिल्ली। दुनियाभर में भारतवंशी महिलों ने अपने टैलेंट और मेहनत के दम पर देश का परचम लहराया है। इसी तरह से देश की कई बेटियां जो आज महिला वैज्ञानिक के तौर पर काम करते हुए, देश का मान बढ़ाया है, और कई बेटियों ने तो अपने हुनर से इतिहास रच डाला है। नीचे बताएंगे देश की ऐसी ही बेटियों के बारे में।

ऐसा ही एक नाम है आनंदीबाई गोपालराव जोशी का। आनंदीबाई गोपालराव जोशी के साथ एक ऐसी घटना घटी जिसने उन्हें वैज्ञानिक बनने के लिए मजबूर किया। दरसल उस जमाने में भारत में लड़कियों की कम उम्र में शादी हो जाती थी, ऐसा ही हुआ आनंदीबाई के साथ। लेकिन कम उम्र में ही शादी होने की वजह से उन्हें बेटी भी जल्द हो गई, पर उनकी बेटी नहीं बच पाई। उस समय मेडिकल साइंस इतना विकसित नहीं था, जिससे आहत हो कर आनंदीबाई ने फिजीशियन बनने का निर्णय लिया, और वे अथक प्रयास कर फिजीशियन की पढ़ाई के लिए लंदन गईं, वहां से उच्च शिक्षा ग्रहण कर वे वापस भारत आईं और आगे चल कर वे भारत की पहली महिला फिजीशियन बनीं।

एक और नाम है जो आज भी देश की महिलाओं के लिए मिसाल है, उनका नाम है जानकी अम्माल।जानकी अम्माल के बारे में मशहूर है कि वे देश की पहली महिला वैज्ञानिक हैं, जिन्हें भारत सरकार द्वारा सर्वप्रथम पद्म श्री अवार्ड से नवाजा गया था। जानकी अम्माल आज भी महिलाओं के लिए मिसाल हैं, उन्होंने विपरीत परिस्थितियों में भी पढ़ना लिखना नहीं छोड़ा, अपनी कड़ी मेहनत से वे बायोटेक्निकल डिपार्टमेंट में उच्च पदः पर रह कर देश की सेवा कीं।

एक समय ऐसा था जब मलेरिया जनलेवा बीमारी थी। मलेरिया के उपचार के लिए कोई खास दवा नहीं थी ऐसे में एक महिला वैज्ञानिक ने देश को इस बीमारी से काफी राहत दिलवाई। उस महिला वैज्ञानिक का नाम है असीमा चटर्जी। असीमा चटर्जी भारत की मशहूर रसायन शास्त्री हुईं हैं। लेकिन उनकी राह आसान नहीं थी। वे काफी विषम परिस्थितियों में अपने लक्ष्य पर डटी रहीं, अंत में पढ़ाई पूरी कर वे एक सफल रसायन शास्त्र की वैज्ञानिक बनीं। मलेरिया की दवा के निर्माण में उनके बहुमूल्य योगदान को कभी भुलाया नहीं जा एकता है।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned