ये है टेनिस का यादगार पल, आज ही के दिन खेला गया था इतिहास का अब तक सबसे लंबा मैच

ये है टेनिस का यादगार पल, आज ही के दिन खेला गया था इतिहास का अब तक सबसे लंबा मैच

Prakash Chand Joshi | Publish: Jun, 24 2019 07:00:00 AM (IST) हॉट ऑन वेब

  • साल 2010 में हुआ था ऐसा
  • टेनिस जगत पूरी तरह हैरान था ये सब देखकर
  • इस दिन कई रिकॉर्ड बने तो कई रिकॉर्ड टूटे थे

नई दिल्ली: विश्व ( world ) में कई तरह के खेल खेले जाते हैं, जैसे क्रिकेट मैच ( Cricket match ), टेनिस, फुटबॉल , कबड्डी समेत कई तरह के खेल। बात इन खेलों के समय की करें तो टेनिस, फुटबॉल और कबड्डी को खेलने के लिए महज कुछ घंटों का समय लगता है। लेकिन क्रिकेट खेलों में सबसे लंबा गेम है। जहां वनडे और टी-20 में 4 से 8 घंटे तो वहीं टेस्ट क्रिकेट के लिए 5 दिन का समय लगता है। लेकिन आज ही के दिन यानि 24 जून 2010 को तीन दिनों से खेला जा रहा टेनिस का खेल खत्म हुआ। ये टेनिस के इतिहास का सबसे लंबा मैच माना गया।

 

tennis

क्या हुआ था उस दिन

22 जून 2010 को विंबलडन चैम्पियनशिप ( Wimbledon Championship ) का एक बेहद ही आम मुकाबला खेला गया। मुकाबला था जॉन इस्नर और निकोलस माहुत ( Nicolas Mahut ) के बीच। मैच की तरह ये खिलाड़ी भी बेहद साधारण थे, लेकिन उस वक्त कोई नहीं जानता था कि ये साधारण से दिखने वाले खिलाड़ियों का मैच 3 दिन तक चलने वाला है। ब्रिटिश समयानुसार 22 जून 2010 को शाम 6:13 बजे मैच शुरू हुआ। चार सेट का गेम खेले जाने के बाद रोशनी धुंधली हो गई। ऐसे में मैच को रोक दिया गया। इसके बाद 23 जून 2010 को 2:05 बजे खेल फिर से शुरू हुआ। वहीं शाम 5:45 बजे टेनिस ( tennis ) इतिहास के सबसे बड़े मुकाबले का रिकॉर्ड टूट गया। वहीं रात 9:09 बजे रोशनी धुंधली होने से मुकाबला रोकना पड़ा। इस वक्त तक आखिरी सेट 59-59 सेट से टाइ रहा।

tennis

तीसरे दिन आया मैच का फैसला

इसके बाद 24 जून की दोपहर 3:40 बजे तीसरी बार गेम शुरु हुआ। शाम 4:47 बजे मुकाबला खत्म हुआ। इस मैच को जॉन इस्नर ( John Isner ) ने कुल 183 गेम्स के लिए 6-4, 3-6, 6-7 (7-9), 7-6 (7-3), 70-68 के अंतिम स्कोर से हराया। ये गेम कुल 11 घंटे 5 मिनट तक खेला गया। लेकिन दिन पूरे 3 लगे। आखिरी सेट 8 घंटे 11 मिनट चला, जिसने पहले सबसे लंबे आखिरी सेट का भी रिकॉर्ड तोड़ दिया था। इस मैच को देखकर सारा टेनिस जगत हैरान था। कोई समझ नहीं पा रहा था कि आखिर ये हुआ कैसे, जिसने इतिहास ही बदल कर रख दिया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned