फिल्म बनाने के लिए नहीं था पैसा तो बकरी चुराना शुरू किया, ऐसे पकड़े गए

दो भाईयों ने अपनी बनाने के लिए एक अनूठी योजना बनाई। उनकी योजना को सुन कर आप या तो अपना सर पकड़ लेंगे या फिर आपका खूब हंसने का मन होगा।

By: सुनील शर्मा

Published: 11 Nov 2020, 03:33 PM IST

फिल्म बनाना बहुत महंगा और श्रमसाध्य कार्य है। यही वजह है कि बड़े-बड़े डायरेक्टर्स की फिल्में बीच में ही अटक जाती है और डिब्बाबंद होकर रह जाती है। लेकिन चेन्नई में रहने वाले दो दोस्तों ने फिल्म बनाने के लिए एक ऐसी योजना बनाई जिसे सुन कर आप हंसे बिना नहीं रह पाएंगे।

वर्चुअल मीटिंग्स के दौरान बॉडी लैंग्वेज का रखें खास ध्यान, ये हैं आसान टिप्स

मैकेनिकल इंजीनियरिंग में कॅरियर के शानदार अवसर, कमाएंगे लाखों करोड़ों

फिल्म बनाने के लिए शुरू की चोरी
वाशेरमेनपेट इलाके के रहने वाले एक व्यक्ति फिल्म बनाना चाहता था। इस फिल्म में वह अपने दोनों बेटों को लीड रोल में रखना चाहता था लेकिन पैसों की तंगी की वजह से फिल्म बीच में ही रूक गई। प्रोजेक्ट रुकने से निराश दोनों बेटे जिनके नाम निरंजन कुमार (30) और लेनिन कुमार (32) है, ने फिल्म को पूरी करने के लिए एक अनूठी योजना बनाई। उनकी योजना को सुन कर आप या तो अपना सर पकड़ लेंगे या फिर आपका खूब हंसने का मन होगा। जानिए क्या किया उन्होंने-

पैसा जुटाने के लिए उन्होंने अपने आस-पास के इलाके की बकरियों को चुराने का काम शुरू किया। दोनों बहुत ही शातिर चोर थे और एक दिन में 8 से 10 बकरियां तक चुराते थे और हर बकरी को पांच से दस हजार रुपए के बीच बेच देते थे।

इस तरह करते थे चोरी
दोनों भाई सड़क के किनारे जा रहे बकरियों के झुंड़ों से एक या दो बकरी चुराते थे और उसे कार में डाल कर भाग जाते थे। इस तरह वो पिछले तीन वर्षों से चोरी कर रहे थे और कभी पकड़ में नहीं आए लेकिन आए दिन बकरियों की चोरी होते देख पुलिस भी सतर्क हो गई।

ऐसे पकड़े गए दोनों चोर
बदकिस्मती से एक बकरी चुराते समय मालिक ने उन्हें देख लिया और पुलिस में खबर दी। इसके बाद पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज देखी जहां उनकी कार दिखाई दी। इस तरह पुलिस उन तक पहुंच गई। अब उनकी फिल्म पूरी हो न हो, लेकिन उसे पूरी करने के चक्कर में किए गए अपराध के कारण उन्हें जेल जाना पड़ा।

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned