निर्भया के दोषियों ने 7 साल में की लाखों की कमाई, करते थे ये काम

  • अक्षय ने मेहनताना के तौर पर 69,000 रुपये
  • विनय को जेल के नियमों को तोड़ने के लिए 11 बार सजा मिली है

By: Pratibha Tripathi

Updated: 15 Jan 2020, 12:10 PM IST

नई दिल्ली। निर्भया गैंगरेप केस के चार दोषियों की मौत देने की तारीख अब नजदीक आते ही जा रही है फांसी देने के दिन जितने करीब आ रहे है उतनी ही अधिक बैचेनी उन्हें बढ़ती हुई देखी जा रही है अब इन आखिरी दिनों में उन्हें अपनी मां की कमी भी खल रही है। इन आरोपियों को तिहाड़ जेल में सात साल से बंद रखा गया है इन सात साल तिहाड़ जेल में रहते हुए इन्होनें 1,37,000 रुपये मेहनताना कमया है। मिली जानकारी के अनुसार उन्होंने 23 बार नियमों का उल्लंघन किया। अक्षय ठाकुर सिंह, मुकेश, पवन गुप्ता और विनय कुमार को साल 2012 में दिल्ली में एक मेडिकल छात्रा के साथ गैंगरेप करने और हत्या के मामले में दोषी ठहाराया गया था। इन्हें 22 जनवरी को सुबह 7 बजे फांसी पर लटकाया जाएगा। हालकि दिल्ली की कोर्ट ने इनके खिलाफ डेथ वारंट जारी किया था।

विनय को जेल के नियमों को तोड़ने के लिए 11 बार सजा मिली है, जबकि वहीं मुकेश ने तीन बार और पवन ने आठ बार नियमों को तोड़ा। अक्षय को एक बार सजा दी गई थी पिछले सात वर्षों में मुकेश ने मजदूरी करने से मना कर दिया था। जबकि अक्षय ने मेहनताना के तौर पर 69,000 रुपये, पवन ने 29 हजार और विनय ने 39 हजार रुपये कमाए।

साल 2016 में तीन दोषियों मुकेश, पवन और अक्षय ने 10वीं कक्षा में एडमिशन लिया, लेकिन वे एग्जाम पास नहीं कर पाए। विनय ने साल 2015 में स्नातक में प्रवेश लिया, लेकिन वह अपनी पढ़ाई पूरी नहीं कर पाया। दोषियों के परिजनों को फांसी से पहले दो बार मिलने की अनुमति दी गई है। विनय सबसे ज्यादा बेचैन दिख रहा है> उसके पिता मंगलवार को उससे मिलने आए थे।

Pratibha Tripathi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned