जब ‘Cyclone’ की मदद से रूक गई थी Plague महामारी, जानें कैसे हुआ ये सब

Plague Pandemic साल 1894 में हांगकांग (Hong Kong) में फैलना शुरू हुआ था। इसके बाद जहाजों की वजह से ये बीमारी दुनिया के कोने-कोने में पहुंच गई। जानकारों के मुताबिक ये बीमारी चूहों से इंसानों में फैला थी।

 

By: Vivhav Shukla

Published: 22 May 2020, 10:43 PM IST

नई दिल्ली। इन दिनों पूरी दुनिया कोरोना वायरस (Coronavirus) से परेशान है। ताजे आंकड़ों के मुताबिक 50 लाख से अधिक लोग इस वायरस के संक्रमण से ग्रसित हैं। 3.3 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। बसे हैरानी की बात ये है कि अभी दुनिया में किसी भी देश के पास इस वायरस की दवा नहीं है। ये महामारी लगातार फैल रही है।

इसके बीच बंगाल की खाड़ी (Bay of Bengal) में आए सुपर साइक्‍लोन अम्‍फान (Super Cyclone Amphan) ने कई लोगों की जान ले ली। इस तूफान ने 100 पहले भी प्‍लेग महामारी फैलने के दौरान एक 'साइक्‍लोन' की याद दिला दी। हालंकि इस 'साइक्‍लोन' ने प्‍लेग (Plague) महामारी को खत्‍म करने में मदद की थी। दरअसल, जर्मनी में साइक्‍लोन के लिए जायक्‍लोन शब्‍द का इस्‍तेमाल किया जाता है। ये एक तरह की गैस है। जिसकी मदद से प्‍लेग को रोकने में आसानी हुई थी।

जहाजों से आया प्लेग?

प्लेग साल 1894 में जहाजों के जरिये पूरी दुनिया में फैली था। इस बिमारी ने कईयों की जान ली थी। साल 1896 में ये बॉम्‍बे पहुंची थी। इस महामारी ने बॉम्‍बे की आधी आबादी को अपने चंगुल में ले लिया था। इस बीमारी ने शहर में इतनी तबाही मचाई थी कि इसे बॉम्‍बे प्‍लेग (Bombay Plague) भी कहा जाने लगा था।

चूहों से फैला प्लेग

प्लेग 1894 में हांगकांग (Hong Kong) में फैलना शुरू हुआ था। इसके बाद जहाजों की वजह से ये बीमारी दुनिया के कोने-कोने में पहुंच गई। जानकारों के मुताबिक ये बीमारी चूहों से इंसानों में फैला थी। इसके बाद से दुनियाभर के कई शहरों में चूहों को पकड़ने वाले लोगों को नौकरी पर रखा गया।

बताया जाता हैं कि जहाजों में चूहों के लिए पर्याप्‍त जगह और खाने-पीने का सामान उपलब्‍ध रहता था। वे यात्रियों के लिए रखे गए खाने को खाते और उससे प्‍लेग यात्रियों में फैल जाता था। संक्रमित यात्री अपने घर प्लेग लेकर जाते थे जिसके चलते और लोग भी बीमार हो जाते थे।

Zyklon गैस से कम हुआ प्लेग

प्लेग को खत्म करने के लिए जर्मनी की कंपनी डिजी (Degesch) ने 1920 में जायक्‍लोन बी (Zyklon B) गैस बनाई। जर्मनी में साइक्‍लोन के लिए जायक्‍लोन शब्‍द का इस्‍तेमाल किया गया क्‍योंकि ये गैस सायनाइड (Cyanide) और क्‍लोरीन (Chlorine) के कंपाउंड से मिलकर बनी थी। जायक्‍लोन बी ने प्‍लेग फैलने से रोकने में काफी मदद की थी

Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned