भारत के BrahMos से खौफ खाती है सारी दुनिया, जानें क्यों है दुनिया की सबसे खतरनाक Missile?

ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल (BrahMos Cruise Missiles) को रूस की एनपीओ मशीनोस्ट्रोयेनिया (NPO Mashinostroeyenia) तथा भारत के Defense research and development organization ने मिलकर साल 1998 में इसे तैयार किया था। इस मिसाइल की सबसे बड़ी खूबी ये है कि इसे जमीन, हवा, पनडुब्बी या युद्दपोत से भी दागा जा सकता है।

 

By: Vivhav Shukla

Published: 26 Aug 2020, 03:54 PM IST

नई दिल्ली। भारत (India) की ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल (BrahMos Cruise Missiles) को दुनिया की अब तक के सबसे घातक मिसाइल सबसे खतरनाक मिसाइल माना जा रहा है। रूस के साथ पार्टनरशिप में बने इस घातक मिसाइल को कई दूसरे देश भारत से ये मिसाइल खरीदना चाह रहे हैं। जिसके लिए भारत और रूस (Russia) ने भी हामी भी भर दी है। यूरेशियन टाइम्स के मुताबिक आर्मी 2020 फोरम के दौरान ब्रह्मोस एरोस्पेस ने सोमवार को एलान किया कि अब इस मिसाइल की बिक्री शुरू हो जाएगी। कम ऊंचाई पर तूफान से भी तेज उड़ान भरने वाली ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल (BrahMos Cruise Missiles) रडार को भी चमका दे जाती है। आइए जानते हैं इस शानदार मिसाइल के बारे में कुछ दिलचस्प बातें..

क्या हैं ब्रह्मोस मिसाइल की खूबियां..

  • रूस की एनपीओ मशीनोस्ट्रोयेनिया (NPO Mashinostroeyenia) तथा भारत के Defense research and development organization ने इसे मिलकर साल 1998 में इसे तैयार किया था। इस मिसाइल की सबसे बड़ी खूबी ये है कि इसे जमीन, हवा, पनडुब्बी या युद्दपोत से भी दागा जा सकता है।
  • ब्रह्मोस एक ऐसी मिसाइल है जो लड़ाई के हालात बनने पर ये सभी सेनाओं के काम आ सकता है. हवा में ही ये अपना रास्ता बदलकर वार कर सकती है।
  • ब्रह्मोस (BrahMos Cruise Missiles) को अमेरिका की टॉम हॉक (America's Tom Hawk) से भी खतरनाक माना जाता है क्योंकि ये उससे लगभग दोगुनी तेजी से वार कर सकती है। यही खूबी इसे दुनिया की सबसे खतरनाक मिसाइल बनाती है।
  • इस मिसाइल (BrahMos Cruise Missiles)का नाम दो नदियों के नाम पर रखा गया है। भारत की ब्रह्मपुत्र और रूस की मस्कवा नदी के नाम को मिलाकर इसका नाम ब्रह्मोस रखा गया है।
  • ब्रह्मोस (BrahMos Cruise Missiles) के उड़ान के दौरान मार्गदर्शन करने की क्षमता भारत ने तैयार की है। वहीं रूस ने इसमें प्रक्षेपास्त्र तकनीक को विकसित किया है।
  • ब्रह्मोस मिसाइल (BrahMos Cruise Missiles) के दागे जाने के बाद टारगेट अपनी जगह से हटने लगे तो उसके मुताबिक ये भी अपनी दिशा बदल लेती है और उसे नष्ट करके ही रुकती है।
 
Vivhav Shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned