अंगूर उत्पादकों को 200 करोड़ का नुकसान

अंगूर उत्पादकों को 200 करोड़ का नुकसान
-लॉकडाउन के कारण फसल हो रही बर्बाद
कोल्हापुर

By: S F Munshi

Updated: 18 Apr 2020, 08:41 PM IST

अंगूर उत्पादकों को 200 करोड़ का नुकसान
-लॉकडाउन के कारण फसल हो रही बर्बाद
कोल्हापुर
कोरोना महामारी आज पूरी दुनिया के लिए बहुत बड़ी चुनौती बनी हुई है। भारत सहित दुनियाभर में आर्थिक हालात बेहद खराब हो चुके हैं। इसका असर देश व दुनिया में अपने अलग स्वाद के लिए पहचाने जाने वाले सांगली के अंगूर किसानों पर भी पड़ा है। जब देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई उस समय यहां किसानों के खेतों में नौ हजार एकड़ में तैयार अंगूर बाजारपेठ जाने का इंतजार कर रहा था। दुर्भाग्य से ऐसे समय पर लॉकडाउन होने के कारण किसानों की उ मीदों पानी फिर गया। अब तक किसानों को 200 करोड़ रुपए से अधिक का नुकसान हो चुका है। हालांकि किसानों ने नुकसान को कम करने के लिए इन अंगूरों का किशमिश तैयार करने का भी प्रयास किया लेकिन नुकसान की भरपाई मुमकिन नहीं है, क्योंकि किशमिश तैयार करने के बावजूद भी किसानों को प्रति एकड़ डेढ़ लाख रुपए के नुकसान का अनुमान लगाया जा रहा है।
किसानों को कर्ज की चिंता
महाराष्ट्र सरकार की ओर से लॉकडाउन को 30 अप्रेल तक बढ़ाए जाने के फैसले के बाद अंगूर किसानों का कहना है कि एक ओर जहां सरकार ने लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा की वहीं दूसरी ओर रही सही कसर बारिश पूरी कर रही है। यहां के किसानों ने अधिकांश खेतों में इस बार अंगूर की ही फसल उगाई है। लॉकडाउन से पहले खेतों में फसल देखकर किसान काफी उत्साहित दिख रहे थे। उन्हें उ मीद थी कि इस बार अच्छा मुनाफा कमाएंगे, लेकिन हो गया सब उल्टा। मुनाफा तो दूर अब किसानों को लागत व फसल के लिए जो कर्ज लिया था उसे चुकाने की चिंता सता रही है।
लॉकडाउन खत्म होने की लगा रहे थे आस
चौदह अप्रेल को 21 दिन के लॉकडाउन के समाप्त होने पर व्यापार की आस लगाए बैठे किसानों की उ मीदों पर महाराष्ट्र सरकार ने उस समय पानी फेर दिया, जब उसने लॉकडाउन के 30 अप्रेल तक बढ़ाने की घोषणा कर दी।
...................................................................................

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned