जमाबंदी खाते में 24 लाख रुपए ऋण देख हैरान हुए किसान

जमाबंदी खाते में 24 लाख रुपए ऋण देख हैरान हुए किसान
-ऋण नहीं मिलने से परेशान
धारवाड़

जमाबंदी खाते में 24 लाख रुपए ऋण देख हैरान हुए किसान
धारवाड़
राजस्व विभाग के अधिकारियों की चूक से धारवाड़ के एक किसान को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके चलते बैंक से ऋण नहीं मिलने से किसान परेशान हैं।
अधिकारियों की चूक से धारवाड़ तालुक के नरेंद्र गांव के नागप्पा मोरब नामक किसान के बैंक तथा कार्यालयों से कार्यालय के चक्कर लगाने के हालात बने हैं। इनकी जमीन के जमाबंदी खाते में 24 लाख रुपए ऋण भार चढ़ा है। इसके चलते ऋण भार उतारे बिना कोई भी बैंक ऋण देने से मना कर रहा है।

बैंक में खाता ही नहीं

आश्चर्य की बात है कि सात एकड़ जमीन के इस जमाबंदी पत्र में एसबीएम बैंक का ऋण दर्ज किया है परन्तु इस बैंक में नागप्पा मोरब का खाता ही नहीं है। इसके चलते से ऋण मांगने बैंकों को जाने पर ऋण भार है पहले इसे कम करने या फिर एसबीएम से एनओसी लेकर आने की बात कह रहे हैं।

लगा रहा तहसीलदार कार्यालय के चक्कर

एसबीएम के विलय होने के चलते नागप्पा ने एसबीआई हुब्बल्ली शाखा जाकर ऋण भार की एनओसी देने को कहा। बैंक ने बताया कि उनके पास खाता ही नहीं है तो एनओसी कैसे दें। एक ओर बिना एनओसी के दूसरे बैंक ऋण नहीं दे रहे हैं तो दूसरी ओर ऋण भार हटाने की मांग को लेकर तहसीलदार कार्यालय के चक्कर लगाने पर भी प्रतिक्रिया नहीं मिल रही है।

ऋण नहीं मिलने से परेशान

स्थानीय निवासियों का कहना कि पूर्व में जमाबंदी दस्तावेजों को कम्प्यूटरीकरण करने के दौरान अधिकारियों ने इस प्रकार की चूक की होगी परन्तु किसान नागप्पा ऋण नहीं मिलने से परेशान है।


महिला ने एक साथ चार बच्चों को दिया जन्म
हुब्बल्ली
शहर के किम्स अस्पताल में एक महिला ने एक साथ चार बच्चों को जन्म दिया।
शहर के किम्स अस्पताल को प्रसव के लिए आई हावेरी जिले के सवणूर की निवासी मेहबूब बी ने रविवार सुबह 11 बजे चार बच्चों को जन्म दिया। इसमें तीन लड़कों तथा एक लड़की को जन्म दिया है। मेहबूब बी का यह दूसरा प्रसव था। फिलहाल चारों बच्चे स्वस्थ हैं। तीन बच्चों का वजन लगभग दो किलो है, एक बच्चे का वजन थोड़ा कम होने से चारों बच्चों का आईसीयू में इलाज किया जा रहा है।
सवणूर में प्लंबर का कार्य करने वाले निसार अक्की तथा मेहबूब बी दम्पती को पहले से ही एक बालक है। पांच वर्ष पूर्व पहली जचकी में बालक को जन्म दिया था। इसके बाद अब दूसरी जचकी में चार बच्चों को जन्म दिया है।

Zakir Pattankudi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned