बाइक राइडर शुभांगी पवार की दुर्घटना में मौत

बाइक राइडर शुभांगी पवार की दुर्घटना में मौत

By: S F Munshi

Published: 14 Oct 2021, 12:24 AM IST

बाइक राइडर शुभांगी पवार की दुर्घटना में मौत
-साढ़े तीन शक्तिपीठों के दर्शन की मुहिम रही अधूरी
-पीछे से आए टैंकर से कुचल कर मौके पर ही मृत्यु
कोल्हापुर
साढ़े तीन शक्तिपीठ का दर्शन करने निकली हिरकणी बाइक राइडर ग्रुप की शुभांगी संभाजी पवार (32) नांदेड-नागपुर महामार्ग पर एक टैंकर से कुचल जाने से मौके पर ही मृत्यु हो गई।
यह ग्रुप अर्धापुर तहसील के दाभड सीमा में भोकरफाटा से गुजर रहा था। खराब रास्ते के चलते मोटरसाइकिल स्लिप हुई और पीछे से आ रहे टैंकर से कुचल जाने से मौके पर ही उसकी मौत हो गई।
सातारा के हिरकणी बाइक राइडर ग्रुप की ओर से साढ़े तीन शक्तिपीठ दर्शन की मुहिम तीन दिन पहले सातारा से शुरू हुई थी। इस मुहिम में ब्रेस्ट कॅन्सर, रास्ता सुरक्षा जनजागृति, महिला सबलीकरण के लिए दस जिले और 14 तहसीलों से यह ग्रुप जाने वाला था। इस मुहिम में शुभांगी पवार, मनीषा फरांदे, अंजलि शिंदे, मोना निकम जगताप, अर्चना कुकडे, ज्योति दुबे, केतकी चव्हाण, भाग्यश्री केळकर, श्रावणी बनर्जी, उर्मिला भोजने आदि महिलाए शामिल थी जबकि यह नौ महिलाएं दस अक्टूबर को 1 हजार 868 किलोमीटर यात्रा के लिए बाइक से निकली। उनको सातारा में सांसद उदयनराजे के साथ कई हस्तियों ने शुभेच्छा देकर रवाना किया। कोल्हापुर में करवीर निवासिनी अंबाबाई और तुलजापुर की भवानी माता का दर्शन करके यह ग्रुप नांदेड से माहुर, वाशी, औरंगाबाद, नासिक, वणी से फिर सातारा जाने वाला था। ग्रुप नांदेड-नागपुर महामार्ग पर अर्धापुर तहसील में भोकरफाटा से जा रहा था। यहां पर रास्ता खराब होने के चलते शुभांगी पवार की बाइक स्लिप हुई। रास्ते पर गिरी शुभांगी के सिर पर पीछे से आ रहे टैंकर का पहिया गुजर गया और उसकी मौके पर ही मौत हो गई।
कॉन्ट्रॅक्टर पर गुनाह दाखिल करें
नांदेड-नागपुर महामार्ग का काम शुरू है जबकि इसके कॉन्ट्रॅक्टर ने एक ओर के रास्ते की मरम्मत किए बिना काम शुरू किया। इसके चलते उसकी अनदेखी से शुभांगी पवार की मौत हुई। ऐसे में सदोष मनुष्यवध का गुनाह दाखिल करें ऐसी मांग ओबीसी हक परिषद के प्रदेश महासचिव सखाराम क्षीरसागर ने की है।
क्या है साढ़े तीन शक्तिपीठ?
इस क्षेत्र के कोल्हापुर की अंबाबाई, तुलजापुर की तुलजाभवानी, माहूरगढ़ की रेणुका ये तीन पीठ और वणी का सप्तशृंगी आधा पीठ सहित ये कुल साढ़े तीन शक्तिपीठ कहलाते हैं।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned