अगले माह से चलेगी बच्चों की छुकछुक

अगले माह से चलेगी बच्चों की छुकछुक
-इंदिरा ग्लास हाउस में पुणे से आएगी बच्चों की नई ट्रेन
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 22 Jul 2021, 09:19 AM IST

अगले माह से चलेगी बच्चों की छुकछुक
हुब्बल्ली
शहर के महात्मा गांधी उद्यान (इंदिरा ग्लास हाउस) में अगस्त के अंत तक फिर से बच्चों की ट्रेन चलनी शुरू हो जाएगी। इस बार बच्चों की बिल्कुल नई वातानुकूलित ट्रेन पुणे से मंगाई जा रही है।
पुणे के सीसी इंजीनियर कंपनी की ओर से निर्मित इस बुलेट तर्ज की बच्चों की ट्रेन और आठ-दस दिन में शहर आएगी। हुब्बल्ली-धारवाड़ स्मार्ट सिटी योजना के तहत लगभग 4.4 करोड़ रुपए की लागत में इस ट्रेन का निर्माण किया जा रहा था। पुणे की सीसी इंजीनियर कंपनी निर्माण तथा पांच वर्ष के रखरखाव का ठेका प्राप्त किया है। इंजन तथा बोगियों का निर्माण किया है।
यह ट्रेन पूरी तरह सेंट्रलाइज्ड वातानुकूलित है। संपूर्ण सुरक्षित है। यात्री किडकी के जरिए ही बाहर का नजारा देख सकते हैं।

930 मीटर की ट्रेन

यह ट्रेन महात्मा गांधी उद्यान परिसर के आसपास 930 मीटर तक चलेगी। इस ट्रेन के सामने एक, पीछे एक दो इंजन तथा चार बोगी होंगे। इस बच्चों की ट्रेन के एक छोर से जाकर दूसरी छोर से वापस उसी मार्ग से लौटकर स्टेशन को आएगी। बच्चों की ट्रेन की आवाजाही के लिए प्रवेश द्वार समीप के दाएं और आएं पृथक तौर पर दो स्टेशनों का निर्माण किया जा रहा है।

64 जने कर सकते हैं सफर

एक भाग से स्टेशन से रवाना होनी वाली ट्रेन वापस आने के दौरान दूसरे इंजन के जरिए चलेगी अर्थात् चालक आगे के इंजन से उतरकर पीचे के इंजन को आकर ट्रेन चलाएगा। एक बोगी 16 जनों की क्षमता की है, कुल चार बोगियों में 64 जने सफर कर सकते हैं।

सौर ऊर्जा से चलेगी ट्रेन

यह ट्रेन सौर ऊर्जा चालित है। एक बार चार्ज करने पर 10 से 15 ट्रिप चलेगी। अब फ्लोर लेवल की तैयारी, स्टेशन कार्य, ट्रैक सेटिंग चर रहा है। ट्रैक फार्मेशन पूरा हो चुका है। 200 मीटर ट्रैक का रिले परीक्षण भी हुआ है। 15 अगस्त या फिर माह के अंत तक बच्चों की ट्रेन का कार्य पूरा होगा। पूर्व में उद्यान में स्थित ट्रेन प्रवेश द्वार से ही होकर गुजरती थी। इससे उद्यान को आने वाले प्रवेश द्वार पर ट्रेन के जाने तक खड़ा होना पड़ता था। इस दौरान उद्यान में प्रवेश करने वाले या फिर ट्रेन चालक की थोड़ी से लापरवाही बरतने पर हादसा हो सकता था। अब चलने वाली बच्चों की ट्रेन पूरी तरह सुरक्षित है।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned