कोरोना से बुजुर्गों में बढ़ा मानसिक तनाव, दोस्तों व परिचितों से मिलने को तरस रहा मन

ज्यादातर लोग सत्तर वर्ष की आयु के बाद शारीरिक तौर पर अशक्त महसूस करने लगते हैं और अब कोरोना की वजह से अपने आपको असुरक्षित महसूस करते हुए परेशान हो जाते हैं और मानसिक तनाव झेल रहे हैं। आयु बढऩे के साथ मधुमेह, रक्तचाप जैसी बीमारी का संग होना आज के समय में आम बात है। तनाव से इन बीमारियों का असर ज्यादा होता है।

By: MAGAN DARMOLA

Published: 08 Jun 2021, 07:03 PM IST

इलकल (बागलकोट). कोरोना ने सबसे ज्यादा बुजुर्गों को परेशान कर रखा है। इसके चलते बुजुर्ग मानसिक तनाव से गुजर रहे हैं। ज्यादातर लोग सत्तर वर्ष की आयु के बाद शारीरिक तौर पर अशक्त महसूस करने लगते हैं और अब कोरोना की वजह से अपने आपको असुरक्षित महसूस करते हुए परेशान हो जाते हैं और मानसिक तनाव झेल रहे हैं। आयु बढऩे के साथ मधुमेह, रक्तचाप जैसी बीमारी का संग होना आज के समय में आम बात है। तनाव से इन बीमारियों का असर ज्यादा होता है। बुजुर्ग होने के नाते उन्हें परिवार के सदस्यों के स्वास्थ्य की चिंता रहती है। घर के बच्चे कितना समझाने के बावजूद बाहर जाने के लिए जिद करते हैं और कभी कभी तो चुपके से चले भी जाते हैं और बुजुर्गों की चिंता शुरू हो जाती है। लॉकडाउन की वजह से परिवार के सारे सदस्य घर पर ही रहते हैं। दिन रात घर में रहने से वे भी परेशान हो जाते हैं। दोस्तों, मित्रों, स्नेहीजनों व सगे-संबंधियों से मिलकर गपशप नहीं कर सकते।

किसी मित्र या सगे संबंधी के जा नहीं सकते और न उनको बुला सकते हैं। कोरोना ने ऐसा जुल्म ढाया है कि आदमी से आदमी मिलने से डर रहा है। बुजुर्गों को तो बिल्कुल ही बाहर नहीं निकलने की बात कही गई है।अब एकान्त में रहने से विभिन्न प्रकार के विचार दिमाग में घूमते रहते हैं और बुजुर्ग तनाव में आ जाते हैं।

इलकल के वरिष्ठ कर सलाहकार व अधिवक्ता केशव कंदीकोण्ड ने बताया कि जब से लॉकडाउन लगा है तब से वे घर पर ही हैं और आफिस बंद हैं। पेपर, पुस्तक पढ़कर समय बिताता हूं। परिवार के सभी सदस्य साथ में रहते हुए समय बिताते हैं। यहां की शिक्षण संस्था एसीओ, श्री विजय महांतेश विद्यावर्धक संघ, इलकल सहकारी बैंक का निदेशक सदस्य होने के नाते बैठक में जाना पड़ता है परन्तु पूरी सावधानी बरती जाती है। सप्ताह में दो-तीन बार अपने बाल मित्रों से बातचीत करने से मन को सुकून मिलता है।

सेवानिवृत्त शिक्षक बालकृष्ण गजेन्द्रगढ़ ने बताया कि उन्होंने इस खाली समय में अनेक विषयों को लेकर लेख लिखे हैं। सवा वर्ष से छात्र छात्राओं से संपर्क नहीं है। हर रोज मित्रों से फोन पर बात करने पर मन समाधान रहता है।
जाने माने वरिष्ठ कर सलाहकार विजयकुमार हन्चाटे ने बताया कि उनके चार बेटे हैं। जिनमें एक उच्च न्यायालय के न्यायाधीश है। मुझे पढऩे व लिखने का शौक रहने के साथ ज्योतिष में भी रुचि रखता हूं। दिन रात घर में ही रहने से एक तरह से अटपटा सा महसूस होता है। ये कैसे दिन आ गए कि हम किसी के घर जा नहीं सकते और कोई हमारे यहां आ नहीं सकता। आदमी से आदमी के डरने की स्थिति निर्माण हो गई है।

वाणिज्य संस्था के अध्यक्ष व कपड़े के उद्यमी सुभाषचन्द्र कटारिया ने बताया कि लॉकडाउन के कारण दुकान बंद होने से घर पर समय बिताना मुश्किल हो रहा है। सुबह व्यायाम, योग आदि करने के बाद में धर्म ध्यान करता हूं। पढऩे का शौक रहने से उपन्यास व दूसरे विषयों की पुस्तकें पढ़ता हूं। शाम को बगीचे में टहलने जाता हूं और दो ढाई घंटे वहीं रहता हूं। दुकान बंद होने के कारण से समय बिताना मुश्किल हो रहा है।

COVID-19
Show More
MAGAN DARMOLA
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned