कोरोना ने छीना किसानों का चैन

कोरोना ने छीना किसानों का चैन
-समर्थन मूल्य नहीं मिल पाने से परेशान
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 10 Jun 2021, 01:31 PM IST

कोरोना ने छीना किसानों का चैन
हुब्बल्ली
बीते एक साल से किसानों को कई समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। इन दिनों धारवाड़ के अमरुद फल उत्पादकों को समर्थन मूल्य न मिल पाने के कारण नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

अमरुद को प्राथमिकता

धारवाड़ जिला आम की पैदावार के लिए जाना जाता है। धारवाड़ में उगने वाला हापुस आम देश-विदेश में विख्यात है। इस बार आम का निर्यात न होने की वजह से किसानों को पर्याप्त नुकसान का सामना करना पड़ा। आम उत्पादकों की भांति ही अमरुद उत्पादकों को भी कठिन हालात से गुजरना पड़ रहा है। पेड़ों पर अमरुद के फल लटक रहे हैं। अभी तक अमरुद उत्पाद को लॉकडाउन की वजह से मंडी उपलब्ध न होने की वजह से फल पेड़ में ही सड़ रहे हैं।
जिले में लगभग 600 हेक्टेयर क्षेत्र में अमरुद उगाई गई है। धारवाड़, नवलगुंद तालुक में बड़ी मात्रा में अमरुद को उगाया गया है परंतु अब अमरुद का उत्पादक कंगाल हो चुका है। फसल इस बार भी हमेशा की तरह अच्छी रही परंतु लॉकडाउन की वजह से मंडी न उपलब्ध होने की वजह से फल पेड़ों में सड़ रहे हैं। किसानों को इसकी वजह से नुकसान का सामना करना पड़ा।

योग्य मंडी उपलब्ध होने पर ही लाभ

हर साल इसी मौसम में फसल की प्राप्ति होती है। यदि मंडी प्राप्त हो तो बेहतरीन आय की प्राप्ति होती है। पिछली बार भी लॉकडाउन के कारण किसानों को कई समस्याओं से जूझना पड़ा था। इस साल भी किसान इस उम्मीद में था कि अमरुद की पैदावार से उसके हालात में सुधार आएगा परंतु इस साल भी मंडी उपलब्ध न होने के कारण किसानों को समझ में नहीं आ रहा कि क्या करें।
इन पेड़ों के प्रबंधन पर किसान हर साल हजारों रुपए खर्च करता है। उर्वरक से कीटनाशक की दवाई तक किसानों को खर्च करना पड़ता है। लॉकडाउन की वजह से किसानों को वो पैसे भी नहीं मिल रहे जो उसने पेड़ों की देखभाल पर खर्च किया।

समस्या से जूझना पड़ रहा हैै

बीते साल कोरोना की वजह से लाखों रुपए का नुकसान हुआ। इस बार पुन: उसी प्रकार की समस्या से जूझना पड़ रहा है। दो साल पहले बाढ़ की वजह से किसानों को नुकसान का सामना करना पड़ा था। कई सालों से एक न एक समस्या का सामना करना ही पड़ रहा है।
-रायनगौड़ा, किसान, शिरूर गांव, नवलगुंद तालुक

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned