डॉ. कलबुर्गी साहित्य संस्करण समर्पण कार्यक्रम

डॉ. कलबुर्गी साहित्य संस्करण समर्पण कार्यक्रम

By: S F Munshi

Published: 30 Jul 2021, 02:13 AM IST

डॉ. कलबुर्गी साहित्य संस्करण समर्पण कार्यक्रम
विजयपुर
शहर के डॉ. हलकट्टी अनुसंधान केंद्र में डॉ. एमएम कलबुर्गी व्यापक साहित्य संस्करण समर्पण, डॉ. अरुण इनामदार की रेडियन्स ऑफ वचन पुस्तक
का विमोचन तथा फोटोग्राफी प्रतियोगिता के विजेताओं के लिए पुरस्कार
प्रदान कार्यक्रम आयोजित किया गया। पुस्तक का विमोचन करने के उपरांत पत्रकार राजु विजापुर ने कहा कि जाने माने भाषा विशेषज्ञ एके रामानुजन
के पश्चात संतों के (शरण) वचनों का अनुवाद अंग्रेजी में करने का श्रेय
डॉ. अरुण इनामदार को जाता है। शिकागो विश्वविद्यालय में जिस समय बहुभाषा
विशेषज्ञ एके रामानुज अनुसंधान कर रहे थे उस समय उन्होंने बसवण्णा के वचनों का अनुवाद अंग्रेजी में किया था। अनुवादित वचनों को प्राथमिकता
इतनी मिली कि स्थानीय सरकार ने इसका प्रचार बसों में व सार्वजनिक
क्षेत्रों में किया। अरुण इनामदार ने अल्लमप्रभु के वचनों का अनुवाद
अंग्रेजी में किया। अल्लमप्रभु के वचनों का शाब्दिक अर्थ कुछ और तथा आंतरिक अर्थ कुछ और निकलता है। विश्वस्तर पर अन्यभाषियों की सुविधा के
लिए वचनों का उत्कृष्ट अनुवाद करने का श्रेय अरुण इनामदार को जाता है।
इस अवसर पर अरुण इनामदार ने कहा कि वे माता-पिता बड़े-बुजुर्गों के
संस्कारों के कारण ही वचनों के प्रति आकर्षित हुए हैं। वे डॉ. एमएस
बिरादार, डॉ. अरविंद पाटील, डॉ. महांतेश बिरादार को वचनों का अनुवाद कर
भेजते थे। आज पुस्तक का विमोचन सभी के सहयोग व प्रोत्साहन के कारण ही संभव
हो पाया है।
अध्यक्षता करते हुए डॉ. कृष्ण कोल्हार ने कहा कि अन्य भाषा के साहित्यकारों की रचनाओं का अनुवाद करने की योजना है।
बीएलडीई अध्यक्ष एमबी पाटील ने एमएम कलबुर्गी का साहित्य संस्करण
स्वर्गीय बीएम पाटील को समर्पित किया। इस अवसर पर रेडियन्स ऑफ वचन नामक
पुस्तक का विमोचन किया गया। कार्यक्रम में विधानपरिषद के सदस्य सुनीलगौडा पाटील, निदेशक संगु सज्जन, डॉ हलकट्टी अनुसंधान केंद्र के डॉ. कृष्ण
कोल्हार कुलकर्णी सहित कई उपस्थित थे। अतिथियों का स्वागत डॉ. महांतेश
बिरादार ने किया। कार्यक्रम का संचालन एबी बूदीहाल ने किया। वचनगीत
ज्योति गेज्जी ने प्रस्तुत किया। अंत में डॉ. वीडी हल्ली ने धन्यवाद
ज्ञापित किया। फोटोग्राफी प्रतियोगिता के विजेता बसवराज सरजापुर, बगलकोट के मंजूनाथगडेप्पा और बसवकल्याण के वीरासेट्टी पाटिल को पुरस्कार
और स्मृति चिन्ह प्रदान किए गए। स्मारक पुरस्कार डॉ गंगाधरथिम्मापुरा और दीपा तात्तिमनी को प्रदान किया गया।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned