आर्थिक संकट में फंसे किसान

आर्थिक संकट में फंसे किसान
-अब तक नहीं मिला फसल खराबे का मुआवजा
हुब्बल्ली

आर्थिक संकट में फंसे किसान
हुब्बल्ली
अतिवृष्टि से हुए नुकसान से आर्थिक संकट में फंसे लघु एवं मध्यम किसानों को अब फसल नुकसान के मुआवजे की चिंता सता रही है। फसल नुकसान रिपोर्ट में कम पैमाने का नुकसान दर्ज करने से किसान चिंतित हो उठे हैं।
बेलगावी जिले में बागवानी विभाग के कार्यक्षेत्र के 8 2 हजार 945 हेक्टेयर क्षेत्र में 40 हजार हेक्टेयर, सब्जी क्षेत्र में पांच से छह हजार हेक्टेयर में प्याज, चार हजार हेक्टेयर में आलू उगाया जा रहा है। अब भारी बारिश तथा नदी-नालों में बाढ़ से चार हजार 578 हेक्टेयर क्षेत्र में फसल नष्ट हुई है। प्याज व आलू की फसल जलमग्न हुई है। अधिकारियों ने मौका मुआयना नहीं किया है। दो माह बीतने को आए किसी भी किसान को मुआवजा नहीं मिला है।

कम नुकसान का उल्लेख

अतिवृष्टि से अनार, केला, प्याज, आलू, सब्जी समेत विभिन्न फसलें भारी पैमाने पर बर्बाद हुई हैं परन्तु अधिकारी ने नुकसान सूची में कम पैमाने का नुकसान का उल्लेख किया है। मूडलगी तालुक में 13 हेक्टेयर, रायबाग तालुक में 6 6 हेक्टेयर क्षेत्र में बागवानी फसल नुकान हुई है। आम, अनार, केला, पपीता, नींबू समेत सब्जी की फसल नुकसान हुई है परन्तु रिपोर्ट में नुकसान का सही तौर पर उल्लेख नहीं करने का किसान आरोप लगा रहे हैं।

सड़कर खाद बनी फसल

बागवानी विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बेलगावी जिले में 2015-16 से वर्ष 2019-20 के कार्यकाल में दो हजार 8 72 एकड़ बागवानी क्षेत्र के विस्तार हुआ है। वहीं बेलगावी, हुक्केरी, रमादुर्ग, सवदत्ती तालुक के किसान बागवानी विभाग के अधिकारियों पर नुकसान झेल रहे क्षेत्रों की सही जानकारी नहीं देने का आरोप लगा रहे हैं। किसानों का कहना है कि अतिवृष्टि के दौरान सरकार की ओर से की गई नुकसान की समीक्षा के दौरान सभी फसलें अच्छी थीं। बाद में नियमित हुई बारिश से प्याज, आलू, केला, पपीता, सब्जी की फसल खराब हुई है। अब फसलें जमीन में ही सड़कर खाद बन रही हैं। इससे किसानों को लाखों रुपए का नुकसान हुआ है।

दोषियों के खिलाफ होगी कार्रवाई

अतिवृष्टि से नुकसान हुई सभी फसलों के लिए मुआवजा दिया जा रहा है। समीक्षा में बागवानी की कुछ फसलों के छोडऩे, गलत जानकारी देने के बारे में समीक्षा की जाएगी। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
-वी. सोमण्णा, मंत्री, बागवानी विभाग

Zakir Pattankudi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned