scriptHave petroleum prices come down in Congress ruled states? | कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं? | Patrika News

कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं?

कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं?
-केंद्रीय मंत्री जोशी ने किया सवाल
हुब्बल्ली

हुबली

Published: November 08, 2021 08:29:27 pm

कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं?
हुब्बल्ली
केंद्रीय संसदीय मामलात, कोयला एवं खान मंत्री प्रहलाद जोशी ने कहा है कि जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकार है क्या उन राज्यों में पेट्रोलियम पर वैट कम हुआ है या कम करेंगे इस बारे में डीके शिवकुमार को राहुल गांधी को पूछना चाहिए।
धारवाड़ में पत्रकारों से बातचीत करते हुए जोशी ने कहा कि चुनाव के चलते दाम घटाना हमारी आदत नहीं है। देश में कुल 29 उपचुनाव हुए हैं। इनमें 12 में एनडीए गठबंधन ने जीत हासिल की है। कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश तथा राजस्थान दो जगहों पर जीत हासिल की है। हमने तेलंगाना, कर्नाटक, मध्यप्रदेश, उत्तर प्रदेश में भी जीत हासिल की है। इसके बाद भी पेट्रोलियम के दाम बढ़ रहे थे। पेट्रोलियम के दाम काबू में नहीं आकर ऐसे ही बढ़ते ही आए हैं, जो कांग्रेस की सरकार में बढ़ोत्तरी होती आई है हमारी सरकार में नहीं।
वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बढ़ती महंगाई को ध्यान में रखकर इसे काबू में लाने की हम कोशिश कर रहे हैं। इसके बाद भी महंगाई निरंतर बढ़ रही है। इसी बीच जनता के थोड़े बोझ को कम किया है। डीके शिवकुमार तथा सिद्धरामय्या प्रबुध्द राजनेता हैं। राहुल गांधी को समझ कम हैं। इन दोनों नेताओं को भी कम समझदारों की तरह बयान नहीं देना चाहिए।
जोशी ने कहा कि देश में बड़े पैमाने पर जनहित योजनाएं होनी चाहिए। कोरोना वैक्सीन, अनाज वितरण होना है। इन सबके लिए धन चाहिए। इसके बावजूद दाम घटाकर लोगों का बोझ कम किया है।
भाजपा, सिध्दरामय्या के बीच ट्वीटर वार को लेकर जोशी ने कहा कि हम अल्पसंख्यक तथा बहुसंख्यकों के समर्थन में नहीं हैं। हम तुष्टिकरण की राजनीति नहीं करते हैं। कांग्रेस के इतिहास को खंगालने पर वह पार्टी तुष्टिकरण की राजनीति करती आई है। वोटबैंक कहकर तुष्टिकरण की राजनीति करती ही आई है। कहीं पर भी चुनाव होने पर वहां सरकार तथा सरकार के मंत्रियों का जाना सहज है। पूर्व में नंजनगूडु, पिरियापट्टण में चुनाव होने पर क्या सिध्दरामय्या नहीं गए थे। सिंदगी तथा हानगल उपचुनाव में भाजपा को 53 प्रतिशत वोट मिले हैं। हारने के बाद संयम खोने का सिध्दांत हमारा नहीं है। सिंदगी में तीस हजार मतों के अंतर से कांग्रेस को हार का सामना करना पड़ा है। वहां भी सिध्दरामय्या क्या प्रचार के लिए नहीं गए थे। हार का मतलब अब तक कांग्रेस ने विपक्ष में बैठने की योग्यता हासिल नहीं की है। चार हजार वोटों के अंतर से हारना हार नहीं है।
कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं?
कांग्रेस शासित राज्यों में क्या पेट्रोलियम के दाम घटे हैं?

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

Coronavirus: स्वास्थ्य मंत्रालय इन 6 राज्यों में कोविड स्थिति पर चिंतित, यहां तेजी से फैल रहा संक्रमणGhana: विनाशकारी विस्फोट में 17 लोगों की मौत, 59 घायलभारत ने जानवरों के लिए विकसित किया पहला कोरोना वैक्सीन,अब शेर और तेंदुए पर ट्रायल की योजना50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीअखिलेश यादव के कई राज सिद्धार्थनाथ सिंह ने खोले, सुन कर चौंक जाएंगेबड़ी खबर- सरकार ने माफ किया पुराना बिल, अब महंगी होगी बिजलीCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतयूपी विधानसभा चुनाव 2022 के दूसरे चरण की 55 विधानसभा सीटों के लिए आज से होगा नामांकन
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.