समुद्र तट की रक्षा की मांग को लेकर कारवार बंद रहा सफल

समुद्र तट की रक्षा की मांग को लेकर कारवार बंद रहा सफल
-नागरमाला योजना का मछुआरों ने किया विरोध
हुब्बल्ली-कारवार

समुद्र तट की रक्षा की मांग को लेकर कारवार बंद रहा सफल
हुब्बल्ली-कारवार
उत्तर कन्नड़ जिले के कारवार वाणिज्यिक बंदरगाह के दूसरे चरण के विस्तार का विरोध करते हुए मछुआरों की ओर से आहूत कारवार बंद को व्यापक समर्थन मिला है। गुरुवार को कारवार शहर पूरी तरह बंद रहा। बंद को सुबह से ही संपूर्ण समर्थन व्यक्त हुआ। शहर के सभी व्यापारिक प्रतिष्ठान, होटल आदि बंद रहे।
मछुआरों के आंदोलन को शहर के विभिन्न संगठनों ने समर्थन दिया। प्रदर्शन में हजारों की संख्या में लोगों ने भाग लिया। मछुआरों तथा स्थानीय संगठनों का कहना है कि सागरमाला योजना के तहत कारवार बंदरगाह विस्तार के लिए पूरक लहर अवरोधक दीवार निर्माण कार्य शुरू किया है। बंदरगाह के विस्तार से मछुआरों को बाधा पहुंचने के साथ कारवार समुद्र तट (बीच) भी योजना से बर्बाद होगा। इसके विरोध में पिछले तीन-चार दिनों से लगातार प्रदर्शन हो रहे हैं।

सड़क पर नहीं उतरी बस

बंद के कारण बस यातायात पूरी तरह बंद रहा। बाहरी राज्यों तथा जिलों, विभिन्न तालुकों व गांवों से आनेवाली बस मात्र शहर में प्रवेश कर रही थीं। सिटी बस, लोकल बसों की आवाजाही बंद रही। टेंपो, ऑटोरिक्शा यूनियन के भी बंद का समर्थन करने से सुबह से ही ऑटोरिक्शा, टेम्पो सड़कों पर नहीं उतरे। बस, टेम्पो तथा ऑटोरिक्शा बंद होने से यात्रियों, विद्यार्थियों को काफी परेशानी हुई।

विभिन्न तालुकों के मछुआरे पहुंचे

सागरमाला योजना के विरोध में मछुआरों तथा विभिन्न संगठनों की ओर से आहुत बंद में भाग लेने के लिए उत्तर कन्नड़ तथा दक्षिण कन्नड़ जिले के विभिन्न मछुओरा संगठनों ने प्रमुख कारवार आए थे।

पुख्ता पुलिस बंदोबस्त

बंद के चलते सुरक्षा की दृष्टि से छह केएसआरपी, आठ डीआर तथा सात सौ से अधिक पुलिस बंदोबस्त किया गया थार। संवेदनशील तथा अति संवेदनशील इलाकों में अधिक सुरक्षा की गई। उत्तर कन्नड़ जिले के पुलिस अधीक्षक शिवप्रकाश देवराजु ने स्वयं हालात का जायजा लिया।

अप्रिय घटना घटने पर आयोजक जिम्मेदार

जिला पुलिस अधीक्षक शिवप्रकाश देवराजु ने बताया कि प्रदर्शन, रैली के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को किसी प्रकार की कोई हानि नहीं पहुंचा सकते। अगर हानि पहुंची तो कारवार बंद का आह्वान करने वाले आयोजकों तथा प्रमुखों को ही जिम्मेदार ठहराया जाएगा।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned