कोल्हापुर निवासियों ने पर्यावरण का रखा ध्यान

कोल्हापुर निवासियों ने पर्यावरण का रखा ध्यान

By: S F Munshi

Published: 17 Sep 2021, 01:04 AM IST

कोल्हापुर निवासियों ने पर्यावरण का रखा ध्यान
-घरगुती गणेश विसर्जन कुंड को दी प्राथमिकता
कोल्हापुर
कोरोना के चलते कोल्हापुर के लोगों ने गए साल की तरह इस साल भी घरगुती गणेश विसर्जन कुंड में प्रतिमा का विसर्जन कर बाप्पा को निरोप देकर पर्यावरण संवर्धन की दिशा में दमदार कदम रखा। रात दस बजेतक 160 कुंडों में 35 हजार मूर्तियां और 80 टन निर्माल्य एकत्र हुआ।
पंचगंगा नदी के साथ तालाब में सीधे मूर्ति विसर्जित करने पर महापालिका ने रोक लगाई थी। उसके लिए हर प्रभाग में दो इस तरह कुल 160 कृत्रिम कुंड तैयार किए गए थे। इसके साथ गणेश मंडलों की ओर से मूर्ति विसर्जन के लिए कुंड और निर्माल्य संकलन की व्यवस्था की गई थी।
इसके लिए महापालिका प्रशासन की ओर से 300 कर्मचारी लगाए गए थे। दान की मूर्ति इराणी खाण में विसर्जित करने के लिए 200 अलग से कर्मचारी चयन किए गए थे। यह यंत्रणा पूरा दिन सुबह से काम कर रही थी। जबकि उनको पर्यावरणप्रेमी नागरिकों के साथ तरुण मंडल के कार्यकर्ता सहयोग कर रहे थे।
पंचगगा नदी घाट, कोटितीर्थ, रंकाला तालाब यहां पर प्रमुख तौर पर विसर्जन होता था लेकिन वहां पर जाने के लिए प्रशासन ने बॅरिकेड्स लगाकर प्रतिबंध किया था। वहां पर मूर्ति लेकर आने वालों को मूर्ति और निर्माल्य दान करने का आह्वान किया गया। उसको नागरिकों की ओर से अच्छा प्रतिसाद मिल रहा था।
सुबह से विसर्जन को गति नहीं थी। रिमझिम बारिश का असर होने से लोग घर से नहीं बाहर निकल रहे थे लेकिन 11 बजे के बाद बारिश का माहौल चला गया जिससे लोगों में खुशी का माहौल तयार हुआ। कईयों ने सहकुटुंब विसर्जन का आनंद लिया। रात दस बजे तक 35 हजार मूर्ति और 80 टन निर्माल्य एकत्र हुआ। देर रात तक मूर्ति इराणी खाण में महापालिका की ओर से विसर्जित की जा रही थी।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned