निर्मल ग्राम फाइलों तक ही सीमित

निर्मल ग्राम फाइलों तक ही सीमित
-अभी तक नहीं हुआ विकास
हुब्बल्ली

By: Zakir Pattankudi

Published: 27 Jun 2021, 12:44 PM IST

निर्मल ग्राम फाइलों तक ही सीमित
हुब्बल्ली
ग्राम पंचायत निर्मल ग्राम से पुरस्कृत कोप्पल जिले का दोटीहाल स्थानीय ग्राम पंचायत का 10 साल बीत जाने के बावजूद भी अभी तक विकास नहीं हुआ है। दोटीहाल ग्राम पंचायत के अंतर्गत प्रमुख सड़कों पर जहां देखो तहां अपशिष्ट पड़ा दिख रहा है। सड़कें नाली की तरह लग रही है। केवल फाइलों तक ही सीमित निर्मल ग्राम की वास्तविकता कुछ और ही बयां कर रही है। विकास तो शून्य के बराबर है।
यहां के ग्राम पंचायत को वर्ष 2010 में निर्मल ग्राम का पुरस्कार प्राप्त हुआ था। कीमती सामग्री उपलब्ध करवाने के बावजूद इसका उपयोग न किए जाने की वजह से 7-8 सालों से धूल फांक रही है।

कहां है निर्मल गांव ?

केंद्र सरकार की ओर से ग्रामीण विकास के लिए लाखों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्र में कंक्रीट सड़कें, शौचालय, कचरा निपटान तथा गांवों की सफाई की रक्षा करना इस योजना का लक्ष्य है। गांव की गली-गली, मंदिर, स्कूल कॉलेज के प्रांगण में जहां देखो तहां कचरे का ढ़ेर ही दिख रहा है। बस स्टैंड पर महिलाओं के लिए शौचालय की व्यवस्था नहीं है। पेयजल की व्यवस्था भी नहीं है। जानकार युवकों का बस यही सवाल है कि अव्यवस्था से संपन्न इस गांव को निर्मल ग्राम का पुरस्कार कैसे मिला?

अधिकारियों की लापरवाही

दस साल पहले निर्मल ग्राम योजना के अंतर्गत ग्राम पंचायतको लाखों रुपए मूल्य के सरिए, ठेले, पाइप, दीप सहित अन्य सामग्री वितरित की गई है। अधिकारी इन वस्तुओं का उपयुक्त उपयोग नहीं कर रहे हैं जिसकी वजह से ये वस्तुएं कोने में पड़ी-पड़ी धूल फांक रही है। निर्मल ग्राम पुरस्कार केवल कागजों तक ही सीमित है। अभी तक गांव में सफाई को प्राथमिकता नहीं दी गई है। ग्राम पंचायत की लापरवाही की वजह से कई सड़कें, नाले, शौचालय गंदगी से भरे हैं।

नहीं किया उपकरणों का उपयोग

अभी तक कचरा निपटान से संबधित उपकरणों का उपयोग नहीं किया गया है। ग्रामीणों का आरोप है कि कुछ सामग्रियों का उपयोग न किए जाने की वजह से सामग्री धूल फांक रही है।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned