scriptOnion crop damaged due to rain | बारिश से प्याज की फसल खराब | Patrika News

बारिश से प्याज की फसल खराब

बारिश से प्याज की फसल खराब

हुबली

Published: October 16, 2021 01:01:19 am

बारिश से प्याज की फसल खराब
-क्वालिटी वाले प्याज के मिल रहे हैं अच्छे दाम
-एपीएमसी में बिक रही हैं प्रतिदिन 1000 बोरियां
गदग
बारिश की वजह से कई जगहों पर प्याज की फसल खराब हो चुकी है। अपेक्षित उपज न होने की वजह से कृषक चिंतित है। इसी बीच प्याज के मूल्य में हुई बढ़ोतरी से किसानों के चेहरे खिल गए हैं। स्थानीय एपीएमसी में प्याज की खरीदारी शुरू हो चुकी है। प्रतिदिन 1000 बोरियां बिक रही हैं। प्याज गुणवत्ता के आधार पर बिक रहा है। गुणवत्ता के आधार पर 500 रुपए से 2 हजार 400 रुपए तक बिक रहा है। गीला प्याज 1 हजार 500 रुपए प्रति क्विण्टल बिक रहा है। सूखा प्याज 2000 से 2 हजार 400 रुपए प्रति क्विण्टल के दाम पर बिक रहा है। जिले में 35 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में प्याज उगाया गया। थोड़ी सी ही फसल किसानों के हाथ लगी है। चार दिन में 3 हजार 500 प्याज की बोरियां बिक चुकी हैं।
गदग, डबल, नरेगल, रोण, गजेंद्रगढ़, होलेआलूर, नरगुंद सहित जिले में 35 हजार हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में प्याज उगाया गया। लगातार हो रही बारिश की वजह से प्याज फसल को काफी नुकसान हुआ है। अब प्याज 2 हजार 400 प्रति क्विण्टल के दाम पर बिक रहा है। एक एकड़ क्षेत्र में 6 टन तथा एक हेक्टेयर में 15 टन प्याज उगाया जाता है। इसी प्रकार सिंचाई वाली भूमि में प्रति एकड़ में 8 टन तथा प्रति हेक्टेयर में 20 टन प्याज उगाया जाता है। एक माह में मंडी में अधिक प्याज आयात होने की संभावनाएं व्यक्त की जा रही हैं।
इस साल 27 एकड़ में प्याज उगाने का लक्ष्य था परंतु 35 हजार एकड़ क्षेत्र में प्याज की कृषि की गई है। अधिकारी आगामी दिनों में अधिक प्याज के आयात होने की संभावनाएं व्यक्त कर रहे हैं परंतु उपज खराब होने की वजह से अधिक पैदावार की उम्मीद नहीं की जा सकती।
इनका कहना है
पंद्रह दिन से बड़ी मात्रा में प्याज की आवक हो रही है। अच्छा प्याज 3000 रुपए प्रति क्विण्टल तक बिक रहा है। किसान चाहता है उसे अधिक दाम मिलें ताकि फसल के नुकसान की भरपाई हो सके।
-हनुमंत सुंकद, प्याज व्यापारी
बारिश से प्याज की फसल खराब
बारिश से प्याज की फसल खराब

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.