मरसणिगे सरकारी विद्यालय में 41 बच्चों पर मात्र एक शिक्षक

मरसणिगे सरकारी विद्यालय में 41 बच्चों पर मात्र एक शिक्षक
-समस्याओं से जूझ रहे हैं कई सरकारी स्कूल
चिक्कमगलूरु

By: Zakir Pattankudi

Published: 21 Jul 2021, 10:41 AM IST

मरसणिगे सरकारी विद्यालय में 41 बच्चों पर मात्र एक शिक्षक
चिक्कमगलूरु
सरकार तथा लोकप्रतिनिधियों की लापरवाही के कारण सरकारी विद्यालयों में शिक्षकों की कमी जैसी समस्या आम बात है। इस प्रकार की समस्याओं के कारण कई सरकारी विद्यालय अब बंद होने की स्थिति में हैं।

बंद होने की स्थिति

जिले के पहड़ी क्षेत्रों में न जाने कितने ही सरकारी विद्यालय के द्वार पर ताले पडऩे की नौबत आई है। जिले के पहाड़ी क्षेत्र में इस प्रकार की समस्याओं की वजह से कई विद्यालय के द्वार बंद हो चुके हैं। जिले के कलस तालुक के अंतर्गत मरसणिगे गांव में स्थित माध्यमिक विद्यालय भी शिक्षकों की किल्लत की वजह से बंद होने की स्थिति में है।

अभिभावक उलझन में

नए तालुक केंद्र के रूप में घोषित जिले के कलस तालुक के अंतर्गत मरसणगी गांव में स्थित सरकारी माध्यमिक विद्यालय सुसज्जित इमारत सहित अन्य सुविधाओं से संपन्न होने के बावजूद शिक्षकों की किल्लत की वजह से अभिभावक इस उलझन में पड़े हैं कि वे अपने बच्चों को इस विद्यालय में भेजें या ना भेजें।

विद्यालय में एक ही शिक्षक

मरसणगी गांव में स्थित सरकारी माध्यमिक विद्यालय में वर्तमान में 41 विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। इन 41 विद्यार्थियों को अभी तक दो ही अध्यापिका पढ़ाती थीं। इनमें से अल्फोन्सा वास्थालिन नामक शिक्षक हाल ही रिटायर्ड हो चुकी है। इस समय विद्यालय में एक ही शिक्षक है जो विद्यालय के सभी काम करने के लिए मजबूर हैं।

शिक्षकों को नियुक्त करने की मांग

सरकारी स्कूल में कक्षाएं कब शुरू होगी इस बारे में अभी तक दिनांक तय नहीं है। कक्षाएं कभी भी शुरू हो सकती है। यदि स्कूल शुरू करने के आदेश तत्काल दे दी जाए तो एक ही शिक्षक को सभी कक्षाओं के विद्यार्थियों को पढ़ाने की नौबत आ सकती है। मरसणिगे ग्राम पंचायत सदस्य विन्सेंट फुत्रारो ने तुरंत शिक्षकों की नियुक्त करने की मांग सरकार के समक्ष रखी।

सरकारी विद्यालयों पर निर्भर

पहड़ी क्षेत्र के बस्ती के लोग अपने बच्चों को शिक्षा उपलब्ध करवाने के लिए सरकारी विद्यालयों पर निर्भर हैं। सरकार व लोक प्रतिनिधियों की जिम्मेदारी है कि तुरंत अतिरिक्त शिक्षकों को नियुक्त करें अन्यथा अभिभावक अपने बच्चों का दाखिला कलस शहर के विद्यालयों में करवाएंगे।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned