बर्ड फ्लू को लेकर जनता भयभीत ना हो, सतर्क रहें

बर्ड फ्लू को लेकर जनता भयभीत ना हो, सतर्क रहें

By: S F Munshi

Published: 14 Jan 2021, 07:39 PM IST

बर्ड फ्लू को लेकर जनता भयभीत ना हो, सतर्क रहें
-मुर्गी का मांस व अंडे अच्छे से उबाल कर खाएं
-जिलाधिकारी नितेश पाटील ने दी सलाह
हुब्बल्ली-धारवाड़
जिलाधिकारी नितेश पाटील ने कहा है कि बर्ड फ्लू को लेकर लोगों को भयभीत होने की आवश्यकता नहीं है। वे धारवाड़ के जिलाधिकारी कार्यालय सभा भवन में बर्ड फ्लू रोकथाम को लेकर जिला प्राणीजन्य रोग नियंत्रण समिति की बैठक को संबोधित कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि बर्ड फ्लू को लेकर जिला समेत राज्य में कोई मामला दर्ज नहीं हुआ है। इसके बावजूद सरकार के आदेश तथा दिशा-निर्देशों के तहत आवश्यक पशु चिकित्सा दल गठित कर जिले में पूर्व सतर्कता बरती जा रही है। जनता को बर्ड फ्लू को लेकर डरे बिना सजग होना चाहिए।
जिलाधिकारी ने कहा कि जिले के सभी तालुकों के लिए पशु चिकित्सा अधिकारी, चिकित्सा सहायक तथा सहायकों समेत कुल पांच जने सदस्यों वाले 50 दल गठित कर आवश्यक प्रशिक्षण देकर बर्ड फ्लू रोकथाम के लिए तैयार किया गया है। जिले के किसी जंगल, खेत, मैदान, तालाब, नहर समेत विविध स्थलों में किसी प्रकार के पक्षी या मुर्गियों की अचानक मृत्यु होने पर तुरंत पास के पशु चिकित्सा अस्पताल को इसकी जानकारी देनी चाहिए। किसी कारण इन्हें हाथ नहीं लगाना चाहिए। सुरक्षा साधनों के बिना इनके नजदीक नहीं जाना चाहिए। मुर्गी का मांस, अंडा आदि का उपयोग करने वाले इसे अच्छे से उबाल कर खाना चाहिए। इससे मनुष्य को बर्ड फ्लू रोग नहीं आएगा। मुर्गी तथा मांस विक्रेता, बूचडख़ानों में काम करने वाले, मुर्गी फार्म में कार्य करने वाले एन-95 मास्क, हैण्डग्लाउज, गमबूट पहनकर काम करना चाहिए। लोगों को बिना वजह भयभीत नहीं होकर सतर्कता बरतनी चाहिए। मुर्गी फार्म या अन्य जगहों में अधिक संख्या में पक्षी या मुर्गियों की मृत्यु होने पर तुरंत पशु अस्पताल को इसकी जानकारी देनी चाहिए।
जिलाधिकारी ने कहा कि मकर संक्रांति पर्व के मौके पर लोगों को जंगल, जलाशय, पक्षीधाम, उद्यान समेत विविध इलाकों को जाने से परहेज करना चाहिए। कोरोना रोकथाम का भी ध्यान रखना जरूरी है। पूर्व सतर्कता के साथ बाहरी स्थलों को जाना चाहिए। संक्रांति पर्व को अपने अपने घर या घर परिसर में ही मनाना स्वास्थ्य सुरक्षा की दृष्टी से अच्छा होगा।
पशुपालन विभाग के उप निदेशक डॉ. परमेश्वर नायक ने बर्डफ्लू से संबंधित लक्षण तथा उनकी जांच, चिकित्सा तथा बर्ड फ्लू के नियंत्रण की दिशा में विभाग की ओर से किए गए पूर्व सतर्कता कार्रवाइयों और लोगों को क्या करना चाहिए इस बारे में जानकारी दी।
बैठक में जिला पंचायत की मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ. सुशीला बी., हुब्बल्ली-धारवाड़ महानगर पुलिस उपायुक्त रामराजन, अपर जिलाधिकारी शिवानंद कराळे, महानगर निगम आयुक्त डॉ. सुरेश इट्नाळ, जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. यशवंत मदीनकर, जिला सर्वेक्षण अधिकारी डॉ. सुजाता हसविमठ, किम्स अस्पताल के सुक्ष्म जीवाणु विशेषज्ञ डॉ. अरुणकुमार चौहान, सहायक निदेशक डॉ. मनोहर द्याबेरी, वन विभाग, स्वास्थ्य विभाग, पशु पालन विभाग के जिला मुख्य चिकित्सा अधिकारी, तालुक सहायक निदेशक, मुर्गी पालन केन्द्रों के सहायक निदेशक समेत जिला प्राणीजन्य रोग नियंत्रण समिति के सदस्य, विभिन्न विभागों के अधिकारियों ने भाग लिया था।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned