परोपकार मानव जीवन का लक्ष्य

परोपकार मानव जीवन का लक्ष्य
पणजी

S F Munshi

January, 1609:37 PM

परोपकार मानव जीवन का लक्ष्य
पणजी
मानव जन्म का लक्ष्य ही परोपकार करना होना चाहिए। जरूरतमंदों की सेवा कर मनुष्य जन्म को सफल बनाना चाहिए। ये विचार गोकाक के शून्य संपादन मठ के मठप्रमुख मुरुघराजेन्द्र स्वामी ने व्यक्त किए। वे मडगांव के मोतीडोंगर स्थित यल्लम्मादेवी मंदिर के छत्रकलश कार्यक्रम के अवसर पर बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि निजी स्वार्थों का त्यागकर हमें समाज को मजबूत बनाने की दिशा में प्रयासरत रहना चाहिए। शरीर में जब तक प्राण है, तब तक ही शरीर का मोल है। शरीर त्यागने से पहले हमें दीन दुखियों की सेवा करनी चाहिए।
मंच पर बटकुर्की के बसवलिंग स्वामी सहित गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री तथा वर्तमान विधायक दिगम्बर कामत, गोकाक तालुक इकाई के अध्यक्ष बसवराज खानप्पनवर, भरमण्णा कट्टीमनी, शिवराज मूलीमनि आदि उपस्थित थे।

बैंक निदेशक बनने के लिए बहा रहे हैं पसीना
-को-ऑपरेटिव बैंक के निदेशक मंडल के चुनाव
इलकल (बागलकोट)
कस्बे की आर्थिक संस्था इलकल को-ऑपरेटिव बैंक के निदेशक मंडल के 17 सदस्यों के चुनाव को लेकर 19 जनवरी को मतदान किया जाएगा। निदेशक मंडल के चुनावी दंगल में कुल 35 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमाने के लिए कमर कस चुके हैं।
चुनाव तिथि की घोषणा होते ही सभी उम्मीदवार बैंक के मतदाताओं से मिलकर अपने-अपने तरीके से समर्थन की गुहार कर रहे हैं। वैसे तो बैंक के कुल शेयरधारकों की संख्या 17 हजार से अधिक है, लेकिन नए नियमों के अनुसार सिर्फ 4030 शेयरधारकों को ही मतदान का अधिकार मिला हुआ है। जिन शेयरधारकों को मतदान का अधिकार नहीं मिला है उनमें काफी नाराजगी दिखाई दे रही है। कुछ सदस्यों की ओर से इस संबंध में न्यायालय का दरवाजा खटखटाने की भी बात कही जा रही है।
चुनाव दंगल में उतर चुके उम्मीदवार सुबह से शाम तक मतदाताओं से मिलकर उन्हें अपने पक्ष में मतदान करने के लिए कह रहे हैं और समर्थकों के साथ चुनावी रणनीति में मशगूल हैं। फिलहाल चुनाव और उम्मीदवारों को लेकर अफवाहों का बाजार भी गर्म है। उम्मीदवार सोशल मीडिया पर भी छाए हुए हैं। सभी उम्मीदवार चुनाव अखाड़े में ताल ठोक रहे हैं और जोरशोर से प्रचार में लगे हुए हैं। सभी उम्मीदवारों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। बैंक के सभी पूर्व निदेशक फिर से अपना भाग्य आजमा रहे हैं।
सामान्य क्षेत्र से 11 उम्मीदवार को चुनना है और अखाड़े में कुल 21 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमा रहे हैं। सामान्य श्रेणी में चरलिंगप्पा अक्की, मल्लिकार्जुन अग्नि, महांतेश अंगड़ी, नन्दकिशोर करवा, अब्दुलसाब कन्दगल, अशफाक मोहम्मद गडाद, विजय गिरड्डी, लक्ष्मण गुरम, बसवराज तालीकोटी, सिद्दप्पा तुडबीनाल, बसनगौड़ पाटील, मल्लिकार्जुन गौड़ पाटील, सिद्दण्णा बावूर, गौतम बोरा, अरविन्द मंगलूर, मन्जुनाथ वालीकार, मल्लिकार्जुन शेट्टर, मन्जुनाथ शेट्टर, सतीश सप्परद, आनन्द संपडी एवं प्रशांत हन्चाटे ताल ठोक रहे हैं।
महिलाओं के लिए आरक्षित वर्ग से 2 महिला निदेशकों को चुनना है। इसमें तीन महिलाएं अपना भाग्य आजमा रही हैं। निदेशक मंडल की निर्वतमान सदस्य अरुणा अक्की एवं ललिताबाई सप्परद फिर से चुनाव मैदान में उतरी हैं, वहीं वीणा अरलीकट्टी के मैदान में उतरने से मुकाबला रोचक हो गया है।
अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित एक निदेशक पद के लिए तीन उम्मीदवार चुनाव दंगल में ताल ठोक रहे हैं।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned