जिले को एड्स मुक्त बनाने की शपथ लें

जिले को एड्स मुक्त बनाने की शपथ लें

By: S F Munshi

Published: 01 Dec 2020, 06:41 PM IST

जिले को एड्स मुक्त बनाने की शपथ लें
-न्यायाधीश चिण्णन्नवर ने कहा
हुब्बल्ली-धारवाड़
वरिष्ठ सिविल न्यायाधीश तथा जिला कानून सेवा प्राधिकरण के सदस्य सचिव आर.एस. चिण्णन्नवर ने कहा है कि धारवाड़ जिले को एड्स मुक्त जिला बनाने की दिशा में विश्व एड्स दिवस के मौके पर हम सब शपथ लेंगे। वे धारवाड़ में मंगलवार को जिला कानून सेवा प्राधिकरण, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग तथा सूचना एवं जन संपर्क विभाग के संयुक्त तत्वावधान में जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग कार्यालय में विश्व एड्स दिवस-2020 के उपलक्ष्य में कानून जागरूकता एवं मदद कार्यक्रम का उद्घाटन कर बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि एड्स रोकथाम के लिए जनता में जागरूकता आवश्यक है। एचआईवी संक्रमण रोकथाम के लिए वैश्विक एकजुटता तथा जिम्मेदारी का बंटवारा नामक संदेश के साथ इस बार विश्व भ्र में एड्स दिवस मनाया जा रहा है। एचआईवी एड्स संक्रमितों को अलग नजरिए से ना देखें। कोविड रोकथाम के इन दिनों में मधुमेह, रक्तछाप, लखवा, एडआईवी एड्स संक्रमित, गर्भवती, जच्चा की स्वास्थ्य सुरक्षा के लिए स्वास्थ्य विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग घर घर जाकर औषध व उपचार दिया गया है जो सराहनीय है। शोषित महिलाएं, एचआईवी एड्स संक्रमितों को जिला एवं तालुक कानून सेवा प्राधिकरण की ओर से नि:शुल्क मदद दी जा रही है।
समारोह की अध्यक्षता कर जिला स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण अधिकारी डॉ. यशवंत मदीनकर ने कहा है कि ग्राम पंचायत चुनाव घोषित किए जाने के चलते इस बार कार्यक्रम को सादगी से मनाया जा रहा है। एड्स रोग नियंत्रण सबकी जिम्मेदारी है। एचआईवी संक्रमण का त्वरित जांच कर पता लगाने से रोग नियंत्रण करना सम्भव होता है।
जिला एड्स नियंत्रण अधिकारी तथा जिला क्षयरोग नियंत्रण अधिकारी डॉ. अय्यनगौडा पाटील ने कहा कि जिले में 2013-14 में एचआईवी संक्रमितों की मात्रा 3 प्रतिशत थी जो अब 0.75 प्रतिशत तक घट गई है।
जिला आरसीएच अधिकारी डॉ. एस.एम. होनकेरी ने विचार व्यक्त किए। जिला कुष्ठरोग नियंत्रण अधिकारी डॉ. शशी पाटील, जिला परिवार कल्याण अधिकारी डॉ. एस.बी. निंबण्णवर, जिला समीक्षा अधिकारी डॉ. सुजाता हसविमठ, जिला सूचना एवं जनसंपर्क विभाग अधिकारी मंजुनाथ डोल्लिन आदि मौजूद थे।
रक्तदान करने वालों का सम्मान
समारोह में अत्यधिक रक्तदान कर जरूरतमंद रोगियों की सहायता करने वालों का सम्मान किया गया। 54 बार रक्तदान करने वाले विनायक पनीरकर, 17 बार रक्तदान करने वाले डॉ. उमेश हल्लीकेरी, 7 बार रक्तदान करने वाली चेतना कोरिशेट्टर, एनएसएस अधिकारी डॉ. मानस, बेळकु महिला संघ की हुसैनबी, जिला रक्त भंडार, एआरटी केन्द्रों के अधिकारी तथा कर्मचारियों को पुस्कार प्रदान कर सम्मानित किया गया। एचआईवी एड्स से मृत्यु होने वालों के लिए दो मिनट का मौन रखा गया। राजेश्वरी कुलकर्णी ने प्रार्थना प्रस्तुत की। शंकरगौडा पाटील ने कार्यक्रम का संचालन किया।

S F Munshi Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned