महादयी पर राजनेता किसानों को कर रहे भ्रमित

महादयी पर राजनेता किसानों को कर रहे भ्रमित
-नरगुंद रैयत सेना के उपाध्यक्ष नायकर ने लगाया आरोप
हुब्बल्ली

महादयी पर राजनेता किसानों को कर रहे भ्रमित
हुब्बल्ली
नरगुंद तालुक रैयत सेना संगठन के उपाध्यक्ष एवं अधिवक्ता रमेश नायकर ने कहा कि महादयी तथा कलसा-बंडूरी नाला परियोजना के क्रियान्वयन के लिए किसी भी प्रकार की कानूनी समस्या नहीं है। राजनेता जान-बूझकर इस योजना को लागू करने में कानूनी समस्या है कह कर किसानों को भ्रमित कर रहे हैं।
नायकर नरगुंद में पिछले 1641 दिन से नियमित चल रहे महादयी तथा कलसा-बंडूरी नाला योजना आंदोलन मंच पर बोल रहे थे।
उन्होंने कहा कि राज्य के उत्तर कर्नाटक के बेलगावी जिले के खानापुर तालुक के कणकुंबी गांव में महादयी तथा कलसा-बंडूरी नाला उद्गम होकर हर वर्ष राज्य के 35 किलोमीटर वन क्षेत्र में बहकर गोवा वन क्षेत्र के जरिए समुद्र में मिलता है। प्रतिवर्ष 210 टीएमसी पानी व्यर्थ होकर समुद्र में मिल रहा है। इस पानी में हम केवल 36.5 टीएमसी पानी इस्तेमाल करना चाहें तो इसके लिए गोवा तथा कर्नाटक के राजनेता मिलकर इस भाग के किसानों को गुमराह करने के लिए पानी का इस्तेमाल करने की खातिर कानूनी बाधा है कहकर आंदोलनकारियों को झूठ बोल रहे हैं। महादयी जल विवाद के लिए नियुक्त न्यायाधिकरण के न्यायाधीश ने 2018 में ही कर्नाटक राज्य महादयी तथा कलसा-बंडूरी नालों में बहने वाले पानी में 13.42 टीएमसी पानी इस्तेमाल करने के लिए किसी प्रकार की कोई समस्या नहीं है कहकर केंद्र सरकार को बताया है। इसके बावजूद केंद्र सरकार ने गोवा के नेताओं से घबराकर कर्नाटक को इस पानी का इस्तेमाल करने के लिए गजट नोटिफिकेशन जारी नहीं किया।
रैयत सेना के सदस्य यल्लप्पा ओलेकार भी विचार व्यक्त किए। मृत्युंजय हिरेमठ, अडिवेप्पा कोरी, एसबी जोगण्णवर, एपी पाटील, बसवराज ऐनापुर, अर्जुन माने समेत कई उपस्थित थे।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned