scriptProviding credit is the main goal of rural banks | ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य | Patrika News

ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य

ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य

हुबली

Published: August 13, 2021 11:08:05 pm

ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य
-ग्रामीणों को डिजिटल मीडिया के प्रति आकर्षित करेगा बैंक
धारवाड़
वित्तीय समावेशन, वित्तीय साक्षरता, प्राथमिकता प्राप्त क्षेत्र को ऋण उपलब्ध करवाना तथा ऋण के सदुपयोग के मनोवृत्ति का विकास ग्रामीणों को डिजिटल मीडिया के प्रति आकर्षित करना ही क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक का प्रमुख लक्ष्य होना चाहिए।
ये विचार केनरा बैंक के कार्यकारी निदेशक ब्रजमोहन शर्मा ने व्यक्त की। वे शुक्रवार को शहर के लैंड मार्ग इमारत के रूप में तब्दील कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक के प्रधान कार्यालय
कॉम्पलेक्स का नाम विकास भवन रखने के उपरांत बोल रहे थे।
शर्मा ने कहा
कि आज 70 प्रतिशत से अधिक लोग ग्रामीण क्षेत्रों में रहते हैं परंतु
ग्रामीणों के जीवन स्तर में अपेक्षित सुधार नहीं हुआ है। ग्रामीण जनता
के जीवन स्तर में सुधार लाने के लिए ऋण उपलब्ध करवाने तथा ग्रामीणों को
आर्थिक गतिविधियों में शामिल होने के प्रेरित करने की कर्नाटक विकास
ग्रामीण बैंक के प्रबंधक से अपील की।
उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र के विकास में ग्रामीण बैंकों का महत्वपूर्ण योगदान है परंतु सुलभ
बैंकिंग सेवा उपलब्ध करवाने में तथा ऋण के प्रवाह को बढ़ाने में अधिक
प्रयास करने की आवश्यकता है। बीते चार दशक के दरम्यान केनरा बैंक
प्रायोजित कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक ग्रामीण क्षेत्र को विशेष तौर पर
कृषि क्षेत्र को विकसित करने में अहम भूमिका निभा रही है। ग्रामीण
क्षेत्र के विकास के लिए सामूहिक जिम्मेदारी अत्यावश्यक है। डिजिटलीकरण
के इस युग में व्यक्तिगत उपभोक्ता सेवा को नहीं भूलना चाहिए।
बैक के अध्यक्ष पी. गोपीकृष्ण ने कार्यक्रम के प्रारंभ में विचार व्यक्त
किए। उन्होंने कहा कि बैंक साल दल साल विकसित होता जा रहा है दायरा बढ़
रहा है। बैंक का कारोबार भी 27 हजार 800 करोड़ पार चुका है। ग्रामीण
क्षेत्र के परिवेश पर गौर करते हुए समाज के किफायती बैंकिंग सेवा उपलब्ध
करवाने के लिए बैंक कटिबध्द है। वर्तमान में बैंक की 629 शाखाएं हैं
जिसकी मदद से 2 हजार 45 गांवों को सेवा उपलब्ध करवाई जा रही है। लघु ऋण
उपलब्ध करवाने को प्रथमिकता दी जा रही है। केनरा बैंक हुब्बल्ली मंडल के
महाप्रबंधक, जीएस रविसुधाकर ने कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक की भूमिका
को सराहा।
प्रधान कार्यालय की इमारत अब विकास भवन
1976 अगस्त माह में कर्नाटक विकास ग्रामीण बैंक की सेवाएं शुरू हुई।
(प्राचीन नाम मलप्रबा ग्रामीण बैंक) इस बैंक की कृषि विश्वविद्यालय मार्ग पर दो एकड़ क्षेत्र में प्रधान
कार्यालय की इमारत है। इस शानदार इमारत को धारवाड़ में शहर की ऐतिहासिक
इमारत में बदल दिया गया है। ग्रामीण विकास से संबंधित कई गतिविधियां यहां
चलती है। बैंक देश से संबंधित कई पुरस्कारों का प्राप्तकर्ता रहा है। इस
प्रकार भवन का नाम विकासन (विकास) भवन रखा गया है। इस अवसर पर बैंक के
महाप्रबंधक चंद्रशेखर मोरो, बी.सी. रविचंद्र, पी श्रीनिवास राव उपस्थित थे।

ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य
ऋण उपलब्ध करवाना ग्रामीण बैंकों का प्रमुख लक्ष्य

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Nagar Panchayat Election Result: 106 नगरपंचायतों के चुनावों की वोटों की गिनती जारी, कई दिग्‍गजों की प्रतिष्‍ठा दांव परOBC Reservation: ओबीसी राजनीतिक आरक्षण पर आज सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई, आ सकता है बड़ा फैसलाUP Election 2022: यूपी चुनाव से पहले मुलायम कुनबे में सेंध, अपर्णा यादव ने ज्वाइन की बीजेपीकेशव मौर्य की चुनौती स्वीकार, अखिलेश पहली बार लड़ेंगे विधानसभा चुनाव, आजमगढ के गोपालपुर से ठोकेंगे तालकोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटे में 2.82 लाख से ज्यादा केस, 441 ने तोड़ा दमरोहित शर्मा को क्यों नहीं बनाया जाना चाहिए टेस्ट कप्तान, सुनील गावस्कर ने समझाई बड़ी बातखत्म हुआ इंतज़ार! आ गया Tata Tiago और Tigor का नया CNG अवतार शानदार माइलेज के साथकोरोना का कहर : सुप्रीम कोर्ट के 10 जज कोविड पॉजिटिव, महाराष्ट्र में 499 पुलिसकर्मी भी संक्रमित
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.