विद्यार्थियों पर बर्तन मांजने और खाना पकाने की जिम्मेदारी

विद्यार्थियों पर बर्तन मांजने और खाना पकाने की जिम्मेदारी
-अध्यापक व एसडीएमसी के खिलाफ रोष
गदग

By: Zakir Pattankudi

Updated: 08 Oct 2021, 07:01 PM IST

विद्यार्थियों पर बर्तन मांजने और खाना पकाने की जिम्मेदारी
गदग
विद्यालय के प्रमुख अध्यापक व एसडीएमसी की लापरवाही की वजह से तालुका के होंबल गांव के विद्यालय के विद्यार्थियों को कई समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।
अभिभावक शिक्षक व एसडीएमसी के खिलाफ आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। सरकार का आदेश है कि विद्यार्थियों का उपयोग स्कूल में निजी कार्य के लिए नहीं लिया जा सकता। गांव के बालकों के प्राथमिक विद्यालय में विद्यार्थियों से पानी भरवाया जाता है। प्रतिदिन विद्यार्थी ठेले पर पानी ले आते हैं। अभिभावकों की शिकायत है कि विद्यालय प्रशासन बच्चों से बर्तन मांजने तथा खाना पकाने के लिए भी पानी भरवाता है।

कोरोना के नियमों में ढील

फिलहाल कोरोना के नियमों में ढील दिए जाने के बाद सुबह 6 बजे से कक्षाएं शुरू हुई हैं। होंबल विद्यालय की छठी तथा सातवीं कक्षा सहित कुल 80 विद्यार्थी हैं। कई विद्यार्थी ग्रामीण क्षेत्र से आते हैं। तालाब गहरा है यदि कुछ अनहोनी हो

जाए तो इसके लिए जिम्मेदार कौन?

विद्यालय के अधिकतर शिक्षक कहते हैं कि वे इस बारे में कुछ नहीं जानते। पूछताछ करने पर एक शिक्षक ने बस इतना ही बताया कि विद्यालय में युवा सेवा एवं खेल विभाग की ओर से ग्रामीण खेलों का आयोजन किया जा रहा है। अत: विद्यार्थी पानी ला रहे हैं।

Zakir Pattankudi Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned